वाराणसी से हारते हारते बचे पीएम मोदी, प्यार से नफरत की हार हुई : राहुल गांधी

 कांग्रेस नेता व सांसद राहुल गांधी आज केरल दौरे पर हैं। उन्होंने मलप्पुरम में एक जनसभा को संबोधित करते हुए लोकसभा में दूसरे कार्यकाल के लिए चुने जाने के लिए लोगों का धन्यवाद किया। राहुल गांधी ने कहा कि नफरत को प्यार और स्नेह ने हराया, अहंकार को विनम्रता ने हराया। 2024 के लोकसभा चुनाव संविधान की रक्षा के लिए लड़ेंगे। मेरी दुविधा यह है कि मुझे वायनाड या रायबरेली से सांसद बनना चाहिए। वायनाड और रायबरेली दोनों ही मेरे फैसले से खुश होंगे। एक जनसभा को संबोधित करते हुए वायनाड से कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने कहा, "…इस देश का हर एक इतिहास और परंपरा हमारे संविधान द्वारा संरक्षित है।" राहुल गांधी ने कहा, "केरल, उत्तर प्रदेश और अन्य सभी राज्यों के लोगों ने प्रधानमंत्री को दिखा दिया कि वह भारत के लोगों को यह नहीं बता सकते कि वे क्या चाहते हैं। भारत के लोगों ने प्रधानमंत्री से यह भी कहा कि संविधान हमारी आवाज है, इसे मत छुओ।"   

लोगों ने संदेश दिया- हम नफरत और हिंसा को पसंद करते
कांग्रेस सांसद राहुल गांधी कहते हैं, "चुनावों से पहले आपने भाजपा नेताओं को यह कहते हुए देखा कि वे संविधान को फाड़ देंगे। चुनाव के बाद आपने प्रधानमंत्री को संविधान के साथ ऐसा करते (संविधान को माथे से लगाते) देखा।" उन्होंने कहा, "सच्चाई यह है कि प्रधानमंत्री वाराणसी में बाल-बाल बच गए और वे खुद भी वाराणसी में हार गए होते। अयोध्या में भाजपा की हार हुई। अयोध्या के लोगों ने संदेश दिया है कि हम नफरत और हिंसा को पसंद करते हैं।"

Back to top button