Trending

राशिफल सोमवार 11 अक्टूबर 2021 : सुखी जीवन के लिए करें यह उपाय, क्या कहती हैं आपकी राशि, जानें अपना राशिफल

Whatsaap Strip

राशिफल सोमवार 11 अक्टूबर 2021 एवं सुखी जीवन के उपाय : दिनांक – 11 अक्टूबर 2021, दिन-सोमवार। तिथि-षष्ठी तिथि। नक्षत्र –ज्येष्ठाचन्द्र। राशी – वृश्चिकराशी। कार्य सिद्ध सफल योग – 12:55से प्रारंभ। मूल-दिन रात।

आज का राशिफल (11 अक्टूबर 2021)

मेष राशि   – चू,चे,चो, ला, ली, लू, ले, लो, अ.

सामान्य रूप से आशा के अनुरूप प्रगति वाला नहीं रहेगा। प्रत्येक क्षेत्र में कुछ बाधाएं उपस्थित होंगी। किसी भी प्रकार का जोखिम लेना हानि प्रद सिद्ध हो सकता है।व्यापार में लाभ कीसंभावना कम है। यात्रा में कष्ट अतः वाहन चालन आदि में सावधानी लाभदायक सिद्ध होगी। जनप्रतिनिधियों के लिए उत्तम दिन नहीं है।

यह भी पढ़ें : शुभ संकेत : इन संकेतों से पहचाने कि कब आपका अच्छा समय शुरू होने वाला है!

वृष राशि  –  ई, उ,ए, ओ, वा,वी, वू,वे, वो.

रोजगार में अनुकूल स्थितियां उत्पन्न होंगी। प्रेम या दांपत्य सुख में वृद्धि होगी ।विवाह से संबंधित कार्य की प्रगति संतोषप्रद रहेगी। रोजगार में लाभ अपेक्षित होगा। राजनेताओं के लिए उत्तम दिन है। यात्रा का उद्देश्य पूर्ण होना कठिन है। नए कार्य में प्रगति होगी। आर्थिक स्थिति उत्तम रहेगी।

मिथुन राशि   – का, की, कू,घ,ड,छ,के, को, ह.

आशा के अनुरूप कार्य पूर्ण होते दृष्टिगोचर होंगे। सामाजिक आर्थिक स्थिति उत्तम रहेगी। जनप्रतिनिधियों के लिए सफलता का दिन है। स्वास्थ्य उत्तम रहेगा परंतु पेट से संबंधित कष्ट की संभावना बनी रहेगी। यात्रा का उद्देश्य पूर्ण होगा। विरोधियों के विरुद्ध कार्रवाई का उचित दिन है। कनिष्ठ वर्ग के लिए आप कारवाई  कर सकते हैं। मनोबल ऊंचा रहेगा।

कर्क राशि  – ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू,डे,डो.

कार्यों की प्रगति से संतुष्टी नहीं मिलेगी। कनिष्ठ वर्ग का अपेक्षित सहयोग कठिन है। या वे आपके इच्छा के अनुकूल कार्य परिणाम नहीं दे सकेंगे। परिवार के सदस्यों के कारण जनता एवं सुख बाधा की स्थिति बन सकती है। संतान पक्ष से भी परेशानी उत्पन्न हो सकती है। सामान्य रूप से दैनिक कार्यों में रोजगार एवं व्यापार में सफलता मिलेगी। कोई महत्वपूर्ण कार्य या दिन नहीं कहा जा सकेगा।

सिंह राशि  – मा, मी,मू,मे,मो,टा,टी, टू, टे. 

यह स्वास्थ्य से सम्बन्धित कुछ नकारात्मक परिणामों का सूचक है। स्वयं का व परिवार के स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखना व सावधानी बरतना आवश्यक है। हो सकता है कि आपको पेट की गड़बड़ी व छाती में बैचेनी जैसी समस्याएँ झेलनी पड़े। स्वास्थ्य में गिरावट चिन्ता का विषय बन सकता है। परिवार के किसी सदस्य अथवा सम्बन्धी का स्वास्थ्य चिन्ता का कारण बन सकता है। मानसिक रुप से आप अशांत व आस-पास के व्यक्तियों के प्रति सशंकित रह सकते हैं।

कन्या राशि- टो,प,पी, पू,ष,ण,ठ,पे, पो. 

सामान्य रूप से कल की तुलना में दिन उत्तम व्यतीत होगा, परंतु महत्वपूर्ण दिन नहीं कहा जा सकेगा ।प्रयासों के परिणाम विलंब से ही सही परंतु आपके पक्ष में आएंगे। खर्च के योग प्रबल बन सकते हैं।नए कार्य हाथ में नहीं लें । जनप्रतिनिधियों के लिए दिन अनुकूल शारीरिक मानसिक दृष्टि से रहेगा।

तुला राशि  – रा, री, रू,रे, रो, ता,ती, तू, ते. 

आर्थिक दृष्टि से दिन अनुकूल नहीं है। आवश्यक खर्च के योग बने रहेंगे। बचत में कमी होगी। जोखिम के परिणाम उपयोगी सिद्ध नहीं होंगे। भागदौड़ या कार्य की अधिकता उत्पन्न हो सकती है। कार्यों के परिणाम अंतिम रूप से आपके पक्ष में रहेंगे। वाद विवाद से बचने का प्रयास करें। किसी कोकोई सलाह देने के स्थान पर स्वयं कार्य निष्पादन करना उत्तम रहेगा।

यह भी पढ़ें : फोन से आपकी जेब को हैक कर रहे हैकर, सावधानी ही बचाव का एकमात्र उपाय

वृश्चिक राशि  –  तो, ना, नी,नू,ने, नो, या, यी,यू.

कल की तुलना में आज का दिन महत्वपूर्ण नहीं रहेगा तथापि कार्य सफलता के योग हैं। शुभ समाचार मिलने की संभावना है। आपके किए गए कार्यों के अच्छे परिणाम आज प्राप्त हो सकते हैं। किसी भी कार्य को करने से पीछे नहीं हटे क्योंकि समय आपके पक्ष में है। राजनेता एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं के लिए उत्तम दिन है। महिलाओं के लिए उपयोगी दिन सिद्ध नहीं होगा।

धनु राशि –ये, यो, भ,भी, भू, ध,फ,ढ,भे. 

किसी भी प्रकार के नए कार्य जोखिम की सलाह नहीं दी जा सकती है ।किसी को कोई परामर्श देना व्यर्थ रहेगा। मार्केटिंग शॉपिंग नहीं करना आपके हित में रहेगा। आवश्यक कामों में ही रुचि लें। जनप्रतिनिधियों के लिए कष्टकारी दिन है। सफलता की संभावनाएं बहुत कम है ।यात्रा एवं भागदौड़ या कार्य की अधिकता रहेगी। महिलाओं के लिए सुविधा में कमी का विशेष दिन है। आकस्मिक कार्य की अधिकता भी हो सकती है। आर्थिक स्थिति कमजोर रहेगी।

मकर राशि –  भो,जा, जी, खी,खू,खे, खो, ग,गी.

आज का दिन भी बहुत महत्वपूर्ण है। आराम के स्थान पर कार्य को महत्व देकर शीघ्र निष्पादन करना आपके लिए लाभदाई रहेगा। किसी भी प्रकार कोई काम कल पर टालना उचित नहीं होगा ।आर्थिक स्थिति उत्तम रहेगी ।नए निर्णय लाभदायक सिद्ध होंगे ।सफलता के योग उत्तम है। प्रसन्नता का वातावरण रहेगा। आमोद प्रमोद पर व्यय हो सकता है।

कुंभ राशि  – गू, गे,गो, सा, सी, सू,से, सो, द.

सामान्य रूप से दिन उत्तम है, परंतु किसी भी कार्य के परिणाम की आशा अपने इच्छा के अनुकूल संपन्न होने की ना रखें। किसी भी प्रकार की जोखिम मै या नए कार्य या मार्केटिंग शॉपिंग अथवा किसी को परामर्श देना लाभदायक सिद्ध नहीं होगा। व्यर्थ किसी के विवाद में ना पड़े। कार्य की सफलता संदिग्ध है आर्थिक स्थिति उत्तम रहेगी। व्यापारिक लाभ रहेगा। रोजगारमें अनुकूल स्थितियां बनी रहेंगी।

मीन राशि  – दी, दू,थ,झ,ञ,दे, दो, चा,ची 

भाग्य आपका साथ देता प्रतीत नहीं होगा। परिवार के सदस्यों एवं संतान पक्ष से चिंता कर परेशानी रहेगी। विद्या प्रतियोगिता के क्षेत्र में सफलता की संभावनाएं कम है। प्रत्येक कार्य को सूझ बुझ  एवं विचार उपरांत करना  उचित होगा। न्याय निर्णय लाभदायक सिद्ध होंगे।बड़ों के आशीर्वाद से किए गए उपरोक्त कार्य पूर्ण होंगे। अथवा बड़ों से विवाद की स्थिति या उनसे अप्रसन्नता का उपहार मिल सकता है। आर्थिक स्थिति सामान्य रहेगी। व्यापारिक लाभ रहेगा।

यह भी पढ़ें : छत्तीसगढ़ न्यूज : कुरीतियों को दूरकर सशक्त समाज के निर्माण में सभी अपना योगदान दें : ताम्रध्वज साहू

सफलता के लिए आज के मंत्र :-

चंद्र देव एवं शिव की पूजा करे। मंत्र -ॐ चंद्रमसे नमः।

चन्द्र्देव का गायत्री मंत्र :-

ओमअमृतअंगायविद्महेकलारूपायधीमहितन्नोसोमःप्रचोद्यात्।
(गायत्री मन्त्र पश्चात् गृहस्थ को आवश्यक है बोलना )
आपो ज्योति रस अमृतम। परो रजसे सावदोम।
1. चन्द्र ॐ क्षीरपुत्राय विद्महे महाकालाय धीमहि तन्नश्चन्द्रः प्रचोदयात्॥
2. ॐ क्षीरपुत्राय विद्महे अमृतत्वाय धीमहि तन्नश्चन्द्रः प्रचोदयात्॥
3. ॐ निशाकराय विद्महे कलानाथाय धीमहि तन्नः सोमः प्रचोदयात्॥

जैन धर्म का मंत्र-

ऊँ नमोर्हते भवते श्रीमते चन्द्रप्रभु तीर्थंकराय विजययक्षज्वाला-मालिनीयक्षीसहिताय ऊँ आं क्रौं ह्रीं ह्यः सोममहाग्रह।  मम दुष्ट  ग्रह रोग कष्ट निवारणं सर्वशांतिं कुरू कुरू हूँ फट् स्वाहा। ॐ ह्रीं सोमग्रहारिष्टनिवारक-श्री चन्द्रप्रभु जिनेन्द्राय नम: सर्वशांतिं कुरु कुरु स्वाहा। मम (अपना नाम) दुष्ट ग्रह रोग कष्ट निवारणं सर्वशांतिं कुरू कुरू हूँ फट् स्वाहा।

सफलता के लिए – नक्षत्र कृत अरिष्ट नाशक मंत्र

देवराज इंद्र की पूजा करने से मनुष्य पुष्टि बल प्राप्त करता है तथा गुणों में, धन में एवं कर्म में सबसे श्रेष्ठ हो जाता है। ॐ सहस्त्रनेत्राय विद्महे वज्रहस्ताय धीमहि। तन्नो इन्द्र: प्रचोदयात्। ॐ हम उस भगवान श्री इंद्र का ध्यान करें जिनके हजार नेत्र हैं और जो अपने हाथों में वज्र को धारण किये हैं. वो भगवान इंद्र हमारी बुद्धि और मन को ज्ञान का प्रकाश दें और हमें सन्मार्ग में प्रेरित करें।

(राशिफल सोमवार 11 अक्टूबर 2021)

Related Articles