तेज रफ्तार बस ने ऑटो को मारी जोरदार टक्कर, हादसे में सेना के दो जवानों की मौत, 7 घायल

Nagpur Road Accident: महाराष्ट्र के नागपुर में बड़ा हादसा हुआ है, जहां कन्हान नदी पुल पर एक तेज रफ्तार बस और ऑटो की टक्कर हो गई, जिसमें भारतीय सेना के 2 जवानों की मौत हो गई। जबकि 6 जवानों समेत ऑटो चालक घायल हो गए। पुलिस के मुताबिक नागपुर के काम्प्टी में गार्ड्स रेजिमेंट सेंटर के 15 जवान खरीदारी करने निकले थे। जवान दो ऑटो में बैठकर बाजार की ओर जा रहे थे। इस बीच कनहन रिवर ब्रिज पर पवल ट्रैवल्स लिमिटेड की बस ने एक ऑटो को टक्कर मार दी। इसके बाद साथी जवानों और राहगीरों ने ऑटो में सवार जवानों और ड्राइवर को बाहर निकाला। हादसे में दो जवानों की मौके पर मौत हो गई। फिलहाल घायलों का इलाज जारी है।

यह भी पढ़ें:- संघर्ष के दिनों की यादें साथ लेकर CM साय से मिलने आए अनेर सिंह, मुलाकात में दोनों हुए भावुक

भारत में सड़क हादसों का ग्राफ तेजी से बढ़ रहा है। सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय की ओर से जारी 2022 की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में पिछले साल कुल 4 लाख 61 हजार 312 सड़क दुर्घटनाएं दर्ज की गई हैं। इन हादसों में मरने वालों की संख्या 1 लाख 68 हजार 491 हो गई है और करीब 4.45 लाख लोग घायल भी हुए थे। भारत में दुर्घटनाओं की संख्या 2021 की तुलना में लगभग 12 प्रतिशत बढ़ गई है। जबकि मरने वालों की संख्या 9.4 प्रतिशत बढ़ गई है।भारतीय सड़कों पर तेज रफ्तार जानलेवा साबित हुई है। 2022 में हुई लगभग 75 प्रतिशत दुर्घटनाओं का कारण यही है। (Nagpur Road Accident)

गलत दिशा में ड्राइविंग भी हादसे का कारण

सड़क दुर्घटनाओं के बढ़ते मामलों के पीछे गलत दिशा में ड्राइविंग भी सबसे बड़े कारणों में से एक है, जिसका योगदान लगभग छह प्रतिशत है। नशे में गाड़ी चलाना और गाड़ी चलाते समय फोन का इस्तेमाल दो अन्य बड़े कारण हैं, जो भारत में चार प्रतिशत से ज्यादा सड़क दुर्घटनाओं में हिस्सेदार हैं। सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के मुताबिक बुनियादी सड़क सुरक्षा मानदंडों के उल्लंघन के कारण भी पिछले साल भारत में लगभग 70 हजार लोग मारे गए। सभी बैठने वालों के लिए अनिवार्य सीटबेल्ट नियम लागू करने के बावजूद 2022 में इसे न पहनने के कारण लगभग 17 हजार लोगों की जान चली गई। (Nagpur Road Accident)

हेलमेट नहीं पहनने से 50 हजार से ज्यादा की मौत

वहीं हेलमेट न पहनने के कारण 50 हजार से ज्यादा दोपहिया वाहन चालकों की भी मौत हो गई। इनमें से आधे से ज्यादा सड़क दुर्घटनाएं राजमार्गों और एक्सप्रेसवे पर हुई हैं। लगभग 33 प्रतिशत सड़क दुर्घटनाएं एक्सप्रेसवे समेत राष्ट्रीय राजमार्गों पर हुई हैं, जो उच्चतम गति सीमा प्रदान करते हैं। राज्य राजमार्गों पर भी पिछले साल एक लाख से ज्यादा दुर्घटनाएं हुईं, जो भारत में सभी दुर्घटनाओं का लगभग 23 प्रतिशत है। रिपोर्ट में कहा गया है कि लगभग 40 प्रतिशत दुर्घटनाएं अन्य सड़कों पर होती हैं। (Nagpur Road Accident)

Back to top button