काम में लापरवाही बरतने पर फिर कार्रवाई, 2 पंचायत सचिव निलंबित

Whatsaap Strip

Panchayat Sachiv Nilambit: मुंगेली जिले के राजपुर और उजियारपुर ग्राम पंचायत के सचिव को निलंबित कर दिया गया है। मुंगेली जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी DS राजपूत द्वारा ने दोनों ग्राम पंचायत सचिवों के निलंबन की कार्रवाई उनके द्वारा गौठान के कार्य में लापरवाही बरतने के मामले में की है। ग्राम पंचायत राजपुर के सचिव अर्जुन लाल यादव द्वारा गौठान में गोबर खरीदी नहीं कराने और गौठान कार्य में सहयोग नहीं करने के लिए निलंबित किया गया है।

यह भी पढ़ें:- गोधन न्याय योजना में लापरवाही बरतने पर सचिव निलंबित, कलेक्टर रजत बंसल की कार्रवाई

इसी तरह ग्राम पंचायत उजियारपुर के सचिव बलरामदास मानिकपुरी द्वारा गौठान में हो रहे निर्माण कार्य, टीकाकरण कार्य में सहयोग नहीं करने और शासन की फ्लैगशिप योजना के क्रियान्वयन में रूचि नहीं लेने के मामले में निलंबित किया गया है। निलंबन अवधि में अर्जुन लाल यादव का मुख्यालय जनपद पंचायत मुंगेली और बलरामदास मानिकपुरी का मुख्यालय जनपद पंचायत लोरमी निर्धारित किया गया है। इस दौरान उन्हें नियमानुसार जीवन निर्वाह भत्ता की पात्रता होगी। (Panchayat Sachiv Nilambit)

कलेक्टर के निर्देश पर कार्रवाई

बता दें कि इससे पहले बलौदाबाजार में भी कार्रवाई हुई है। दरअसल, कलेक्टर रजत बंसल के निर्देश पर जिला पंचायत CEO गोपाल वर्मा गांवों में भू-जल स्तर और कृषि सुविधा में विस्तार के लिए लगातार गांवों का निरीक्षण कर रहे हैं। जिसके अंतर्गत ग्राम संकरी,करेली,बुडगहन,भटभेरा, कुथरौद,हिरमी,पड़कीडीह, चंडी पहुंचकर कार्यों का जायजा लिया। इस दौरान भटभेरा में ग्रामीणों की शिकायत पर सचिव को गौधन न्याय योजना और मनरेगा के कार्यों में लापरवाही बरतने के चलते सचिव श्रवण कुमार वर्मा को निलंबित कर दिया गया है। निलबंन के अवधि में नियमानुसार जीवन निर्वाह भत्ता की पात्रता होगी और इनका मुख्यालय जनपद पंचायत सिमगा होगा। (Panchayat Sachiv Nilambit)

वर्मा निरीक्षण के दौरान बाइक से कार्य स्थलों पर भी पहुंच रहे हैं। इस दौरान किसानों से चर्चा कर सिंचाई के लिए हर खेत के लिए जल अभियान और सिचांई की सुविधा विकसित करने की योजना के संबंध में विस्तृत चर्चा कर रहे हैं। योजना के तहत जिला पंचायत और जनपद पंचायत के अधिकारी कर्मचारी सभी दौरे में उपस्थित हो रहे हैं। जिले के अधिकांश गांवों में जलस्तर की गिरावट और यहॉं असिंचित क्षेत्र का रकबा अधिक होने के कारण यह अनूठी पहल मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत के नेतृत्व में उनकी टीम द्वारा प्रारंभ की गयी है। पहले चरण में जिन जिन गांवों में पानी की अत्याधिक समस्या होती है। (Panchayat Sachiv Nilambit) 

Related Articles