CM Bhupesh Action: लापरवाही बरतने पर CM ने नायब तहसीलदार और कोतबा सोसायटी के सभी कर्मचारियों को किया निलंबित

Whatsaap Strip

CM Bhupesh Action: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भेंट-मुलाकात अभियान के दौरान जशपुर जिले के पत्थलगांव विधानसभा के ग्राम बाघबाहर पहुंचे, जहां पर उन्होंने आमजनता शिकायतों को गंभीरता से लेते हुए मौके पर ही बड़ी कार्रवाई की है। मुख्यमंत्री ने धान खरीदी में अनियमितता बरतने की शिकायत पर कोतबा सोसायटी के सभी कर्मचारियों को और जाति प्रमाण पत्र बनाने में लापरवाही बरतने पर बाघबाहर के नायब तहसीलदार उदयराज सिंह को तत्काल निलंबित कर दिया है। बता दें कि किसान डोल नारायण चौधरी ने धान खरीदी केंद्र बागबाहर में टोकन काटने के लिए पैसे की मांग किए जाने पर शिकायत की थी। इस पर धान खरीदी कोतबा सोसायटी के कर्मचारी सहायक लिपिक विकेश कुमार, गुरूकान्त चौहान और ऑपरेटर रजनीश कुमार रोहितास को निलंबित किया गया।

यह भी पढ़ें:- Rural Park: कुलगांव में छत्तीसगढ़ का पहला रूरल इंडस्ट्रीयल पार्क स्थापित, जानिए क्या है खासियत

मुख्यमंत्री बघेल भेंट-मुलाकात कार्यक्रम में ग्रामीणों से चर्चा कर रहे थे, तभी ग्रामीण महिला बुधमती बाई चौहान ने मुख्यमंत्री को बताया कि क्षेत्र में स्टील प्लांट लगना प्रस्तावित है, लेकिन उन्हें अपने क्षेत्र में स्टील प्लांट नहीं चाहिए। इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर स्टील प्लांट को लेकर प्रस्ताव ग्राम सभा में पारित नहीं होगा तो प्लांट नहीं लगेगा। मुख्यमंत्री बघेल ने युवाओं को संबोधित करते हुए कहा कि राज्य में 14 हजार से अधिक शिक्षकों की भर्ती तीन साल के अंदर हुई है। वहीं अन्य विभागों में भी बड़ी संख्या में लगातार नौकरियां दी जा रही हैं। (CM Bhupesh Action)

65 प्रकार के वनोपज की समर्थन मूल्य पर खरीदी

किसानों की आय को लेकर मुख्यमंत्री ने कहा कि बीते साढ़े तीन साल में छत्तीसगढ़ सरकार ने कई अभिनव योजनाएं शुरू की हैं, जिससे राज्य में कृषि की ओर रुझान बढ़ा है और इससे कृषि का रकबा बढ़ने के साथ किसानों की संख्या में भी बढ़ोतरी हुई है। इसके अलावा छत्तीसगढ़ में 65 प्रकार के वनोपज की समर्थन मूल्य पर खरीदी, गोबर खरीदी जैसे अभिनव पहल के बाद गौठानों को रुरल इंडस्ट्रियल पार्क के रूप में विकसित किया जा रहा है, जहां कई तरह के आजीविकामूलक गतिविधियों का संचालन हो रहा है।

 

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़वासियों को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के लिए राज्य सरकार लगातार कवायद कर रही है। कोरोना काल में जब पूरे देश में आर्थिक गतिविधियां ठप पड़ गई थीं, लोगों को काम नहीं मिल रहा था, तब छत्तीसगढ़ में मनरेगा के काम अनवरत रूप से जारी रहा, जिससे ग्रामीण क्षेत्रों में बड़ी संख्या में लोगों को काम मिला। राज्य खनिज संसाधनों से समृद्ध है, ऐसे में छत्तीसगढ़ में रोजगार की अनेक संभावनाएं हैं। अगर उद्योग लगेंगे तो लोगों को रोजगार मिलेगा। छत्तीसगढ़ में सबसे कम बेरोजगारी दर है। (CM Bhupesh Action)

Related Articles