झोपड़ी पर पलटा रेत से भरा ट्रक, हादसे में एक ही परिवार के 8 लोगों की मौत

Hardoi Accident: उत्तरप्रदेश के हरदोई में बड़ा और दर्दनाक हादसा हुआ है, जहां रेत से भरा ट्रक अनियंत्रित होकर झोपड़ी पर पलट गया, जिसमें एक ही परिवार के 8 लोगों की मौत हो गई। परिवार में सिर्फ एक बच्ची बची है। बता दें कि वक्त सभी घर के बाहर सो रहे थे। मृतकों में पति-पत्नी, 4 बच्चे, दामाद और नातिन शामिल हैं। सूचना पर पहुंची पुलिस ने सभी के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है। साथ ही ट्रक ड्राइवर और उसके हेल्पर को गिरफ्तार कर लिया है। मृतकों की पहचान अवधेश (उम्र 45), उसकी पत्नी सुधा (उम्र 42), 3 बच्चे- सुनैना (उम्र 11), लल्ला (उम्र 5), बुद्ध (उम्र 4), दामाद करन (उम्र 25), उसकी पत्नी हीरो (उम्र 22) और बेटी कोमल (उम्र 5) के रूप में हुई।

यह भी पढ़ें:- विशेषज्ञ डॉक्टर्स की कमी दूर करने बनेगी कमेटी, मेडिकल कॉलेज के डीन समेत कई अधिकारी होंगे शामिल

जानकरी के मुताबिक लोग मल्लावां कस्बे में सड़क किनारे झोपड़ी बनाकर रहते हैं। लोगों ने बताया कि पूरा परिवार ट्रक के नीचे दबा था। वहीं एक बच्ची घायल पड़ी थी। तुरंत पुलिस को सूचना दी गई, जिसके बाद पुलिस ने JCB मंगवाई, जिसके जरिए ट्रक को सीधा किया गया। साथ ही रेत को हटवाया गया। फिलहाल पुलिस ने ट्रक को कब्जे में लिया है। ड्राइवर से पूछताछ की जा रही है। घायल बच्ची को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया है, जहां उसकी हालत नाजुक बनी हुई है। हादसे को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दुख जताया है। उन्होंने कहा कि शोक संतप्त परिजनों के प्रति अपनी संवेदनाएं व्यक्त करते हुए प्रभु राम से दिवंगत आत्माओं को सद्गति और शोकाकुल परिजनों को दुख सहने की शक्ति देने की प्रार्थना की है। (Hardoi Accident)

देश में तेजी से बढ़ रहा सड़क हादसों का ग्राफ

भारत में सड़क हादसों का ग्राफ तेजी से बढ़ रहा है। सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय की ओर से जारी 2022 की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में पिछले साल कुल 4 लाख 61 हजार 312 सड़क दुर्घटनाएं दर्ज की गई हैं। इन हादसों में मरने वालों की संख्या 1 लाख 68 हजार 491 हो गई है और करीब 4.45 लाख लोग घायल भी हुए थे। भारत में दुर्घटनाओं की संख्या 2021 की तुलना में लगभग 12 प्रतिशत बढ़ गई है। जबकि मरने वालों की संख्या 9.4 प्रतिशत बढ़ गई है।भारतीय सड़कों पर तेज रफ्तार जानलेवा साबित हुई है। 2022 में हुई लगभग 75 प्रतिशत दुर्घटनाओं का कारण यही है। (Hardoi Accident)

Back to top button