खालिस्तान विवाद: भारत के एतराज के बाद प्रधानमंत्री ट्रूडो के नरम पड़े सुर, बोले- हम उकसा नहीं रहे

Khalistan Dispute: प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने मंगलवार को कहा कि कनाडा भारत सरकार के एजेंटों और सिख आतंकवादी हरदीप सिंह निज्जर की हत्या के बीच संभावित संबंध का आरोप लगाकर भारत को उकसाने की कोशिश नहीं कर रहा है। रॉयटर्स ने ट्रूडो के हवाले से कहा कि भारत सरकार को इस मामले को बेहद गंभीरता से लेने की जरूरत है। हम ऐसा कर रहे हैं, हम उकसाने या इसे आगे बढ़ाने की कोशिश नहीं कर रहे हैं। कनाडाई प्रधानमंत्री की यह टिप्पणी संसद में उनके भाषण पर हंगामा मचने के बाद आई है।

यह भी पढ़े :- Horoscope 21 September 2023 : इस राशि वाले करें पुरे मन से काम, क्या कहती है आपकी राशि, जानें सभी राशियों का भविष्यफल

खालिस्तानी आतंकवादी हरदीप सिंह निज्जर की कथित हत्या को लेकर दोनों देशों के बीच चल रहे गतिरोध के मद्देनजर कनाडा सरकार ने मंगलवार को भारत में रहने वाले अपने नागरिकों के लिए एक सलाह जारी की है। कनाडा सरकार की वेबसाइट पर प्रकाशित सलाह में भारत में रहने वाले कनाडाई नागरिकों से उच्च स्तर की सावधानी बरतने का आग्रह किया गया है। परामर्श में कहा गया है कि देश भर में आतंकवादी हमलों के खतरे के कारण भारत में अत्यधिक सावधानी बरतें।

बता दें कि कनाडा पीएम जस्टिन ट्रूडो ने सोमवार को आरोप लगाया था कि सिख नेता हरदीप सिंह निज्जर की हत्या के पीछे भारत सरकार है. कनाडा सरकार ने भारत की संलिप्तता की जांच के मद्देनजर कनाडा में भारत के शीर्ष राजनयिक को निष्कासित कर दिया था. वहीं, भारत सरकार ने कनाडाई पीएम ट्रूडो के आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया. भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा कि ट्रूडो के आरोपों को झूठा बताया था. इसके बाद भारत ने भी नई दिल्ली में कनाडा के राजनयिक कैमरून मैके को निष्कासित कर दिया था. (Khalistan Dispute)

विदेश मंत्रालय ने कहा कि कनाडा में किसी भी तरह की हिंसा में भारत सरकार पर शामिल होने का आरोप लगाना हास्यास्पद और राजनीति से प्रेरित है. हम अपने लोकतांत्रिक मूल्यों के प्रति प्रतिबद्ध हैं. विदेश मंत्रालय ने कनाडाई राजनयिक को 5 दिन अंदर देश छोड़ने के लिए कहा था. बता दें कि खालिस्तान टाइगर फोर्स (KTF) के प्रमुख और सिख अलगाववादी नेता हरदीप सिंह निज्जर की इसी साल 18 जून को एक गुरुद्वारे के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. उसपर 10 लाख रुपये का नकद इनाम था. (Khalistan Dispute)

Back to top button