बोरवेल में गिरे 6 साल के तन्मय की नहीं बच सकी जान, 84 घंटे बाद शव को निकाला गया बाहर

Whatsaap Strip

Tanmay Sahu Rescue Update: बैतूल के मांडवी गांव में खेलते वक्त 400 फीट गहरे बोरवेल में गिरे 6 साल के तन्मय साहू की मौत हो गई है। रेस्क्यू टीम ने 84 घंटे बाद बच्चे का शव बाहर निकाला। रेस्क्यू टीम शुक्रवार-शनिवार की दरमियानी रात 3 बजे बच्चे के करीब पहुंच गई थी। सुबह 5 बजे तक शव को बाहर निकाला जा सका। 7 बजे बैतूल के जिला अस्पताल में शव को लाया गया। बोर में पानी की वजह से शव गल गया था। 5 डॉक्टरों की टीम ने शव का पोस्टमॉर्टम किया। PM के बाद परिजन शव लेकर गांव रवाना हो गए।

यह भी पढ़ें:- मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल से नन्ही नेहल को मिली नई जिन्दगी, पढ़ें पूरी खबर

तन्मय के चाचा राजेश साहू ने कहा कि यह हमारे लिए बहुत दुख की घड़ी है। हमने सोच रखा था कि सफल होंगे और हमारा बच्चा हमें वापस मिल जाएगा। बचाव दल ने तो दिन-रात प्रयास किया है, पर कहीं न कहीं लेट हो गए। अगर हमारे पास ऐसा कोई संसाधन होता, जिससे हम बच्चे को उसी दिन निकाल लेते, तो वो बच जाता। टीम वर्क बहुत अच्छा रहा, लेकिन हम लेट हो गए। ADM श्यामेंद जायसवाल ने बताया कि तन्मय के शरीर को जब निकाला गया, तो वो डीकम्पोज की स्थिति में था। पीएम रिपोर्ट में जो जानकारी मिली है, उसमें चेस्ट कंजेशन यानी सीने में जकड़न और पसलियों में चोट सामने आई है। (Tanmay Sahu Rescue Update)

वहीं कलेक्टर अमनबीर सिंह बैंस ने बताया कि बोर 400 फीट गहरा है। बच्चा करीब 39 फीट की गहराई में फंसा था। रेस्क्यू टीम ने बोर के समानांतर 44 फीट गहरा गड्‌ढा खोदा। इसके बाद 9 फीट की हॉरिजॉन्टल सुरंग खोदी गई थी। इससे पहले शिक्षा और जिले के प्रभारी मंत्री इंदर सिंह परमार ने बैतूल में रेस्क्यू स्थल का जायजा लिया। उन्होंने बोरवेल में गिरे बच्चे के माता-पिता से भी बात की थी। रेस्क्यू ऑपरेशन की निगरानी कर रहे होमगार्ड कमांडेंट एसआर आजमी ने बताया कि बोरवेल में तन्मय 39 फीट पर फंसा हुआ था। (Tanmay Sahu Rescue Update)

होमगार्ड कमांडेंट एसआर आजमी ने बताया कि बच्चे की नॉर्मल हाइट तीन से चार फीट मानकर हमने 44 फीट तक गड्‌ढा खोदा है। टनल बनाने में NDRF और DSRF के 61 जवान लगे थे। इधर, घटनास्थल मांडवी गांव के साथ-साथ आसपास के 4 गांव के लोगों ने मदद के लिए हाथ बढ़ाए। रेस्क्यू में जुटे 200 से अधिक लोगों के लिए निशुल्क भोजन से लेकर सभी प्रकार की व्यवस्था ग्रामीणों ने की। उनकी एक ही मंशा थी कि तन्मय को हंसता-खेलता देखें। बता दें कि 6 साल का तन्मय दूसरी क्लास में पढ़ता था। वह खेलते-खेलते बोरवेल के गड्ढे में गिर गया था। शुरुआत में तन्मय को रात में रस्सी से खींचा गया, लेकिन वो वापस गिर गया, जिसके लिए युद्ध स्तर पर रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया गया, लेकिन बच्चे की जान नहीं बच सकी। (Tanmay Sahu Rescue Update)