स्कूल शिक्षा विभाग के संभाग और जिला अधिकारियों का प्रशिक्षण शुरू, पढ़ें पूरी खबर

CG School Education Department: छत्तीसगढ़ स्कूल शिक्षा विभाग के संभाग और जिला अधिकारियों का पांच दिवसीय राज्य स्तरीय प्रशिक्षण शुरू हो गया है। पूर्व प्रीटेस्ट और प्रशिक्षण के बाद पोस्ट टेस्ट देंगे। लोक शिक्षण संचालक दिव्या उमेश मिश्रा ने कहा कि स्कूल शिक्षा विभाग में परिवर्तन का दायित्व संभाग और जिले के शिक्षा अधिकारियों पर है। उच्च प्राथमिकता के कार्यों का त्वरित क्रियान्वयन के लिए हमें प्रशासनिक रूप से दक्ष और योजनाओं का ज्ञान बहुत आवश्यक है और इसीलिए प्रशिक्षण आवश्यक है।

यह भी पढ़ें:- छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट में ग्रीष्मकालीन अवकाश शुरू, चीफ जस्टिस ने किया सत्यापन कार्य का निरीक्षण

उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ प्रशासन अकादमी निमोरा में प्रदेश के पांच संभाग के संयुक्त संचालकों सभी जिला शिक्षा अधिकारियों और सहायक संचालकों के राज्य स्तरीय प्रशिक्षण के प्रारंभिक सत्र को संबोधित कर रही थी। संभाग और जिलों के अधिकारी प्रशिक्षण पूर्व प्रीटेस्ट समेत प्रशिक्षण के बाद पोस्ट टेस्ट देंगे। मिश्रा ने कहा कि विभाग द्वारा जारी किए गए योजना और नियम निर्देश को क्रियान्वित करने की जिम्मेदारी जिलों की होती है जब हम प्रशासनिक रूप से दक्ष होंगे तभी हम इसे बेहतर कर पाएंगे। स्कूल शिक्षा विभाग में राष्ट्रीय शिक्षा नीति, निष्ठा पोर्टल, दीक्षा पोर्टल, प्रबंध पोर्टल, RTI, PM पोषण योजना पोर्टल को भी अपडेट किए जाने की आवश्यकता है, जिसके लिए दक्ष होना जरूरी है। (CG School Education Department)

मिश्रा ने कहा कि हमें अनुशासन का पालन करते हुए सुनने की आदत डालनी होगी और प्रशिक्षण को जीवंत बनाए रखना होगा। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि स्वयं का आकलन करने वाला व्यक्ति कभी हार नहीं मानता। उद्घाटन सत्र में प्रशासन अकादमी के डायरेक्टर टी. सी. महावर ने कहा कि विभाग के आवश्यकता अनुसार प्रशिक्षण का आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने सभी प्रशिक्षणार्थियों से अनुशासन में रहकर नियमों का पालन किए जाने की अपेक्षा की। उन्होंने अकादमी के पुस्तकालय का उपयोग भी किए जाने का सुझाव दिया। (CG School Education Department)

33 जिलों के जिला शिक्षा अधिकारी हुए शामिल

अतिरिक्त संचालक डॉक्टर योगेश शिवहरे ने इस अवसर पर कहा कि अच्छा प्रशासक वही होता है, जो नियम कानून को जाने वह किसी के हाथों की कठपुतली ना बने। हमें ऐसा कार्य करना चाहिए जिससे रिटायरमेंट के बाद भी कोई समस्या खड़ी ना हो। योजना के बेहतर क्रियान्वयन के लिए यह प्रशिक्षण अत्यंत आवश्यक है। उन्होंने बताया कि अतिरिक्त विषयों पर भी शाम के सत्र में प्रशिक्षण आयोजित किए जाएंगे। प्रशिक्षण के उद्घाटन सत्र में उपसंचालक आशुतोष चावरे, अशोक नारायण बंजारा, प्रशांत पांडेय, अकादमी के कोर्स डायरेक्टर अभिषेक दुबे, डॉक्टर प्रदीप शुक्ला और नोडल प्रभारी डी. दर्शन उपस्थित थे। प्रशिक्षण में संजीव श्रीवास्तव बस्तर, आरपी आदित्य बिलासपुर, राकेश पांडे रायपुर, संजय गुप्ता सरगुजा और आर. एल. ठाकुर दुर्ग के संयुक्त संचालक समेत 33 जिलों के जिला शिक्षा अधिकारी और 12 जिलों के सहायक संचालक उपस्थित रहे। (CG School Education Department)

Related Articles

Back to top button