छत्तीसगढ़ पूरे देश में स्वच्छता के मामले में सर्वश्रेष्ठ राज्य घोषित ! जानिए इस ऐतिहासिक सफलता की पूरी हकीकत

Whatsaap Strip

केंद्र सरकार की तरफ से छत्तीसगढ़ को सूचना मिली है कि स्वच्छता के मामले में छत्तीसगढ़ को एक बार फिर देश में सर्वश्रेष्ठ राज्य घोषित किया गया है। न सिर्फ राज्य, बल्कि यहां के 61 निकायों को भी स्वच्छता में बेहतर प्रदर्शन के लिए पुरस्कृत किया जाने वाला है।

इस सूचना के साथ केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल तथा नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ शिव डहरिया को दिल्ली आमंत्रित किया है, जहां 20 नवंबर को पुरस्कार दिए जाएंगे।

इसे भी पढ़े:मंगलवार 16 नवम्बर 2021 : सुखी जीवन के लिए करें यह उपाय, क्या कहती हैं आपकी राशि, जानें अपना राशिफल

पता चला है कि आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर आयोजित स्वच्छता के अमृत महोत्सव में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद यह पुरस्कार प्रदान करेंगे। सूत्रों के मुताबिक देश में छत्तीसगढ़ अकेला राज्य होगा जहां के सबसे ज्यादा निकायों को इस साल स्वच्छता के मामले में पुरस्कृत किया जाएगा।

इसे भी पढ़े:अक्षय कुमार की ‘पृथ्वीराज’ का टीजर रिलीज, ट्विटर पर लोग बोले- ‘हाउसफुल 4’ के ‘बाला

नगरीय प्रशासन विभाग के अफसरों के मुताबिक इससे पहले 2019-20 में भी छत्तीसगढ़ स्वच्छता के मामले में अग्रणी राज्य रहा है। उल्लेखनीय है कि केन्द्रीय आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय हर साल स्वच्छ सर्वेक्षण का आयोजन करता है। सीएम भूपेश बघेल ने इस उपलब्धि के लिए प्रदेश की जनता तथा सफाई कर्मचारियों के साथ ही विभाग के अधिकारियों-कर्मचारियों को बधाई दी है।

इसलिए बने सर्वश्रेष्ठ

छत्तीसगढ़ देश का एकमात्र ऐसा प्रदेश है जहां पर 9000 से अधिक स्वच्छता दीदियों के माध्यम से घर-घर जाकर 1600 टन गीला एवं सूखा कचरा इकट्‌ठा कर उसे डिस्पोज किया जाता है। शहरों एवं कस्बों से मुक्कड़ हटाकर अब कचरों को सीधे प्रोसेसिंग प्लांट तक ले जाया जाता है।

ये निकाय पुरस्कृत होंगे

अंबिकापुर, रायपुर, भिलाई-चरौदा, बिरगांव, चिरमिरी, भाटापारा, कवर्धा, जशपुर नगर, दीपका, पाटन, दोरनापाल, चंद्रपुर, उतई, अभनपुर, सूरजपुर, भाटागांव, घरघोड़ा, किरोड़ीमल नगर, रायगढ़, छुरियाकला, कोरबा, बिलासपुर, राजनांदगांव, बेमेतरा, धमधा, अहिवारा, दुर्ग, भिलाईनगर, बालोद, चिखलाकसा, गोबरा नवापारा, कूंरा, सरायपाली, मगरलोड, बड़े बचेली, रिसाली, बैकुंठपुर, प्रेमनगर, अकलतरा, शिवरीनारायण, चांपा, खैरागढ़, छुरिया, डौंडी, कसडोल, माना-कैंप, राजिम, खरोरा, बसना तथा खम्हरिया।

पुरस्कार के ये आधार

जिन मापदंडों के आधार पर पुरस्कार दिये जाते हैं उनमें घरों से कचरा इकट्ठा करने , कचरे का डिस्पोजल , खुले में शौच तथा कचरा मुक्त शहर आदि का थर्ड पार्टी के माध्यम से आंकलन कर लोगों से फीडबैक लिया जाता है । इसी के आधार पर राज्यों एवं शहरों की रैंकिंग जारी की जाती है ।

Related Articles