Trending

राशिफल 3 अक्टूबर 2021 : क्या कहती हैं आपकी राशि, कैसा रहेगा आपका रविवार, जानें अपना राशिफल

Whatsaap Strip

आज का राशिफल : 3 अक्टूबर 2021, दिन-रविवार। तिथि-द्वादशी । श्राद्ध सन्यासी द्वादशी   तिथि। नक्षत्र मघा । चन्द्र राशी – सिंह । व्रत –इन्दिरा एकादशी  व्रत। कार्य सिद्ध सफल योग – निल तक। अश्व वाहन वर्षा योग – प्रबल वर्षा योग। मूल-दिनरात। व्यतिपात—-नहीं । राशिफल – सर्व सफलता पूर्ण दिन – तुला, वृश्चिक राशि। सुख बाधक दिन – मकर,कन्या,वृष । 

आज का राशिफल (3 अक्टूबर 2021)

मेष राशि (Aries) – चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, अ.

आज का दिन किसी भी प्रकार का जोखिम लेने के लिए उचित नहीं है। व्यवहार में अतिरिक्त कुशलता की आवश्यकता है। परिवार एवं  मित्रों या  कार्यालय में अधिकारियों से मतभेद या विरोध की स्थिति बन सकती है। अनपेक्षित अपमान की स्थिति से बचना उचित होगा |प्रत्येक क्षेत्र अतिरिक्त प्रयास के उपरांत ही सफल हो सकता है | समय को देखते हुए किसी भी प्रकार अति उत्साह से दूर रहना उचित होगा। विशेष-यात्रा एवं नए कार्य हाथ मे नहीं ले |

वृष राशि (Taurus) – , , , , वा, वी, वू, वे, वो.

आज के दिन अप्रिय स्थितियों की स्थिति रहेगी।  प्रत्येक कार्य को सूझबूझ के बाद अथवा सोचने विचारने के उपरांत ही करना उचित होगा। आर्थिक सामाजिक एवं राजनीतिक तीनों स्तर पर मन के अनुकूल कार्य नहीं हो सकेंगे ।धार्मिक आध्यात्मिक एवं दान आदि के कार्य में रुचि बढ़ सकती है। बाधाएं कम हो सकती हैं ।

मिथुन राशि (Gemini) – का, की, कू, , , , के, को, ह.

पद प्रतिष्ठा का प्रयोग एवं सुख  उपभोग होगा ।परिवार के बड़ो या कार्यालय में उच्च अधिकारियों से पूर्ण कृपा प्राप्त होगी ।स्वास्थ्य उत्तम रहेगा। मांगलिक कार्यों में रुचि बढ़ेगी ।प्रशंसा एवं ख्याति के सुयोग हैं ।हाथ में लिए हुए कार्य पूर्ण होंगे। नेतृत्व क्षमता बढ़ेगी| यश बढ़ेगा। विशेष-यात्रा एवं नए कार्य हाथ मे नहीं ले |

कर्क राशि (Cancer) – ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो.

यात्रा एवं खर्च के अनायास योग बनेंगे ।कार्य परिश्रम से ही पूर्ण होंगे। कार्यालय में कार्य की अधिकता रहेगी ।कठिनाइयां बढ़ सकती हैं ।स्वास्थ्य बाधा संभव है ।राजनीति के क्षेत्र में कष्ट होगा। सामान्य तौर पर लोगों का व्यवहार सहयोगी या मित्रता पूर्ण नहीं रहेगा। विशेष-यात्रा एवं नए कार्य हाथ मे नहीं ले |

सिंह राशि (Leo) – मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे.

सौभाग्य, सुख व सम्मान इस अवधि की विशेषता है । आपके व आपके परिवार के लिए रोगों से मुक्त रहने सुयोग  है । जीवन में सुख शान्ति का मनोभाव आपको संतोष प्रदान करेगा ।  भावनाओं के प्रति आवश्यकता से अधिक संवेदनशील न बन जाएं । आर्थिक रुप से भी यह एक अच्छा समय है । पुराने दिए ऋणों, आर्थिक लक्ष्य प्राप्ति होगी |कार्य में उन्नति भी हो सकती है । 

 कन्या राशि (Virgo) – टो, , पी, पू, , , , पे, पो.

शारीरिक रुप से आप स्वास्थ्य में गिरावट महसूस करेंगे । मानसिक रुप से असंतोष अनुभव करेंगे । आपको भोजन भी इतना रुचिकर नहीं लगेगा । दिन  में असंतोष सा रहेगा । मन में उदारता एवं दया भावना की कमी होगी। अनपेक्षित स्थिति से क्रोध एवं विवाद की स्थिति बन सकती है।आकस्मिक अप्रिय स्थिति निर्मित होगी।  महत्वपूर्ण कार्यों को टालना उचित होगा। खर्च बढ़ेगा।दैनिक कार्य सरलता से पूर्ण होंगे।

तुला राशि (Libra) – रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते.

विपरीत स्थितियों पर नियंत्रण स्थापित होगा ।शत्रु पराजित होंगे ।आपका मनोबल एवं आत्मविश्वास आपको यश एवं सफलता प्रदान करेगा। स्थाई संपत्ति एवं लाभ की स्थिति उत्तम है। परिवार के छोटों से या संतान सुखपूर्ण सहयोग प्राप्त होगा। विवाद के सभी मामलों में अथवा इंटरव्यू परीक्षा में सफलता के अच्छे योग हैं।

वृश्चिक राशि (Scorpio) – तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू.

अच्छे लोगों से परिचय होगा कार्यों में सफलता मिलेगी |पद प्रतिष्ठा के अच्छे अवसर हैं |विद्या के क्षेत्र में यश पड़ेगा सफलता मिलेगी |राजनीति में गौरव तथा यश बढ़ेगा मित्र वर्ग से पूर्ण सहयोग मिलेगा| शासन या राज्य मैं आपके कार्य प्रगति पर रहेंगे| सज्जन वर्ग से विशेष सहयोग मिलेगा व्यापार में प्रगति होगी |समय का भरपूर उपयोग करने का सुझाव दिया जाता है।

धनु राशि (Sagittarius) – ये, यो, , भी, भू, , , , भे.

यह माह का अच्छा समय है । यह समय इच्छापूर्त्ति, लक्ष्यप्राप्ति का है | सांसारिक व भौतिक सुख प्राप्त करने का है ।नयी योजना निर्माण एवं कार्य प्रारम्भ के लिए सर्वोत्तम समय है |सफलता निश्चित है । ग्रहों के अनुकूल होने के कारण आप व आपका परिवार सामान्य रुप से सुखी रहेंगे ।  यह समय आपके कार्यस्थल के लिए भी शुभ है । आप सम्मान, पदोन्नति एवम् प्रशंसा की आशा कर सकते हैं । निर्धारित लक्ष्य प्राप्त कर सकते हैं ।

 मकर राशि (Capricorn) – भो, जा, जी, खी, खू, खे, खो, , गी.

आपके कार्यों की सफलता संदिग्ध है विरोध,मतभेद,विवाद की स्थिति बन सकती है |राजनीति में छल की संभावना है |विश्वास के परिणाम प्रतिकूल होंगे |दांपत्य साथी का स्वास्थ्य खराब हो सकता है |आवश्यक खर्चों में वृद्धि होगी |शारीरिक एवं मानसिक कष्ट की स्थिति से बचने के लिए, किसी भी कार्य को करने में शीघ्रता नहीं बरतें ।बाजार के काम, परामर्श देना ,यात्रा, नए कार्य प्रारंभ करना उचित नही होगा । 

कुंभ राशि (Aquarius)– गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, द.

सकारात्मक परिस्थितियों का दिन है । यह समय सुख व कार्यों में सफलता का द्योतक है। आर्थिक दृष्टि से भी यह समय आपके लिए शुभ है। अटका हुआ पैसा पुन: प्राप्त हो सकता है ।आपको शत्रुओं पर विजय प्राप्त करने में भी सहायक होगी । प्रेम संबंध सुख या नए मित्र हेतु यह दिन अनुकूल है । दाम्पत्य जीवन में सुख समन्वय रहेगा | आपको आमोद-प्रमोद के अवसर भी मिलेंगे । संतान आपके जीवन के सुख में और अधिक वृद्धि करेगी ।  स्वास्थ्य अच्छा रहेगा |

 मीन राशि (Pisces) – दी, दू, , , , दे, दो, चा, ची.

विजयश्री आपके साथ होगी। मनोबल  उत्तम रहेगा। राजनीति एवं जनसम्पर्क से लाभ सफलता मिलेगी। स्वास्थ्य बाधा का योग रहेगा। राजनीति में विरोधी पराजित होंगे |आपके कार्यों की प्रशंसा होगी।आपके द्वारा किये  गए कार्य यश दिलवाएंगे ।धन के क्षेत्र में अनुकूल स्थितियां बनेंगी। सफलता के योग अच्छे है।

रविवार दिन के अनिष्ट सुरक्षा उपाय 

रविवार -सुख,सौभाग्य वृद्धिके लिए – कुंडली में,दशा –अन्तर्दशा में होने पर,अशुभ भाव में होने पर   दोष के  अनिष्ट नाश हेतु अथवा सूर्य ग्रह की प्रसन्नता / कृपा के लिए उपाय –

किसी भी मन्त्र के अंत में अवश्य कहे- *सर्व सिद्धिम,सफलताम च सर्व वान्छाम पूरय पूरय में नम: / स्वाहा |

स्नान जल मे कनेर पुष्प ,केसर,खस,इलायची मिला कर स्नान करे |

-सूर्य देव को जल अर्पण करे |मंत्र -खखोलकाय नमः |

–  बाधा मुक्ति के लिए दान-गुड,लाल,वस्त्र,पुष्पतांबा नारंगी वस्तु,लाल चन्दन कनेर लाल पुष्प |

दान -लाल गाय ,सूर्य मंदिर10 वर्ष तक के बच्चे,विष्णु,कृष्ण मंदिर मे  दे सकते है||

3- दिन दोष आपत्ति निराककरण के लिए घर से प्रस्थान पूर्व क्या खाएं–

–रसाल,आम,घी,पान मे से कोई भी पदार्थ | पान का पत्‍ता अपने पास रखकर निकलें |

गुड, या आम रस , पदार्थ कच्ची केरी चटनी आम का रस आदि ग्रहण करना चाहिए ।

सफलता के लिए –

ओम सप्त तुरंगाय विद्महे सहस्त्र किरणाय धीमहि तन्नो सूर्यः प्रचोदयात् ।|आपो ज्योति रस अमृतम |परो रजसे सावादोंम |आपो ज्योति रस अमृतं | परो रजसे सावदोम |

जैन मंत्र-

’ ऊँ ह्रीं अर्हं सूर्य ग्रहारिष्ट निवारक। श्री पद्म प्रभु जिनेन्द्राय नमः सर्वशांतिं कुरू कुरू स्वाहा।

मम (अपना नाम) दुष्टग्रहरोगकष्टनिवारणं सर्वशांतिं कुरू कुरू हूँ फट् स्वाहा। 

1-ग्रहाणाम आदिरात्यो लोक रक्षण कारक:। विषम स्थान सम्भूतां पीडां हरतु मे रवि: ।।

ग्रहों में प्रथम परिगणित अदिति के पुत्र तथा विश्व की रक्षा करने वाले,

 भगवान सूर्य विषम स्थानजनित मेरी पीड़ा का हरण करें ।। ब्रह्माण्डपुराण

नक्षत्र अनिष्ट सुरक्षा उपाय

हव्य-कव्य के द्वारा पूजे गए सभी पितृगण धन-धान्य, भृत्य, पुत्र तथा पशु प्रदान करते हैं। वस्त्र दान करना चाहिए|

-ॐ पितृगणाय विद्महे जगत धारिणी धीमहि तन्नो पितृो प्रचोदयात्. ॐ देवताभ्य: पितृभ्यश्च महायोगिभ्य एव च। नम: स्वाहायै स्वधायै नित्यमेव नमो नम:

तिथि अनिष्ट सुरक्षा उपाय उपाय

पूतिका(पोई) भोजन वर्जित। तुलसी तोडना, मांसाहार, सेम, मटर, शहद ,खीरा,ककड़ी,तेल, आवला. व्यंजन उत्पाद का प्रयोग नहीं करे। खीर भोजन में शामिल करे |– तैल-मर्दन नए घर का निर्माण करना तथा नए घर में प्रवेश तथा यात्रा का त्याग करना चाहिए।

कार्य के पूर्व – विष्णु की पूजा करके मनुष्य सदा विजय मिलती हैं।

ॐ  नारायणाय  नम:|| विष्णवे नम:|| ऊँ नारायणाय विद्महे। वासुदेवाय धीमहि। तन्नो विष्णु प्रचोदयात्।। 

मैं भगवान विष्णु जो इस सृष्टि के पालक और रक्षक हैं, को नमन करता हूं| जो शांति पूर्वक  सर्प के ऊपर लेटे हुए हैं, ब्रह्मांड का सृजक, कमल का फूल, जिनकी नाभि से निकला हुआ है | पूरी सृष्टि को पोषक है , सर्वव्यापी है जो मेघ जैसे सांवले , आंखें कमल के समान है, सर्व स्वामी हैं, योगी जिनका  ध्यान करते हैं, वह इस संसार के भय का विनाश करने वाले भगवान विष्णु को मेरा नमस्कार।

ॐ हूं विष्णवे नम: . ॐ नमो नारायण। श्री मन नारायण नारायण हरि हरि। मिथुन,कर्क राशी वाले बाधा नाश के लिए अवश्य करें।

(राशिफल 03 अक्टूबर 2021)

Related Articles