2024 के लोकसभा चुनाव में यूपी की इस सीट से मैदान में उतरेंगे अखिलेश यादव, मीडिया के सामने किया खुलासा

Whatsaap Strip

Akhilesh Yadav : नेताजी मुलायम सिंह यादव के निधन से रिक्त हुई मैनपुरी लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी और यादव परिवार ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। इसी क्रम में गुरुवार को कन्नौज पहुंचे समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष Akhilesh Yadav ने इशारों ही इशारों में 2024 का प्लान भी बता दिया। अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने संकेतों में कह दिया कि वे 2024 के लोकसभा चुनाव में कन्नौज लोकसभा सीट से मैदान में उतरेंगे।

यह भी पढ़ें : दिल्ली की जामा मस्जिद में लड़कियों की एंट्री पर लगा बैन, वीएचपी ने कहा- भारत को सीरिया बनाने वाली मानसिकता

Akhilesh Yadav ने मीडिया से क्या कहा

कन्नौज के पूर्व चेयरमैन के बेटे के तिलकोत्सव में शिरकत करने पहुंचे पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने मीडिया से बातचीत में संकेत दिया कि वे 2024 में लोकसभा का चुनाव कन्नौज से ही लड़ेंगे। अखिलेश यादव से जब डिंपल यादव के मैनपुरी से उपचुनाव लड़ने पर सवाल पूछा गया तो अखिलेश ने कहा, ” 2024 में भी है चुनाव। हम खाली बैठकर क्या करंगे? हमारा काम ही चुनाव लड़ना है। चुनाव लड़ेंगे यहां पर, जहां पहला चुनाव लड़े हैं। वहीं से चुनाव लड़ेंगे।”

बीजेपी सांसद ने कही ये बात

अखिलेश यादव के इस ब्यान पर कन्नौज से बीजेपी सांसद सुब्रत पाठक की भी प्रतिक्रिया सामने आई है। उन्होंने कहा कि वे कहां से चुनाव लड़ते हैं, या नहीं लड़ते हैं यह उनकी पार्टी का मसला है। लेकिन अब जनता समझ चुकी है कि परिवारवाद आगे नहीं बढ़ेगा। मुलायम सिंह जी के निधन के बाद काफी चीजें बदल चुकी है। मुलायम सिंह के बाद अखिलेश यादव पार्टी के अध्यक्ष और अब मैनपुरी में डिंपल यादव प्रत्याशी। कोई और कार्यकर्ता पार्टी में सर्वोच्च स्थान पर पहुंच ही नहीं सकता।

यह भी पढ़ें : Agni 3 Missile का सफल परिक्षण, इससे चंद मिनटों में तबाह हो जाएगा बीजिंग और इस्लामाबाद

पहली बार कन्नौज से लोकसभा पहुंचे थे Akhilesh Yadav

गौरतलब है कि पहली बार अखिलेश यादव कन्नौज और फिरोजाबाद से जीतकर लोकसभा पहुंचे थे। इसके बाद उन्होंने फिरोजाबाद की सीट छोड़ दी थी। जिस पर हुए उपचुनाव में डिंपल यादव को मैदान में उतारा गया था। जिसमें कांग्रेस के राज बब्बर ने डिंपल यादव को हराया था। इसके बाद 2014 में डिंपल यादव कन्नौज से जीतकर लोकसभा पहुंची थी। हालांकि 2019 में बीजेपी के सुब्रत पाठक ने उन्हें हराकर यह सीट बीजेपी की झोली में डाल दिया था।

Related Articles