Balodabazar Agriculture Department: DAP की जगह अन्य उर्वरकों का किया जा सकता है उपयोग, कृषि विभाग ने जारी की विस्तृत गाइडलाइन

Whatsaap Strip

Balodabazar Agriculture Department: कृषि कार्यों में DAP की उपलब्धता कम होने के चलते कृषि विभाग बलौदाबाजार ने DAP की जगह अन्य उर्वरकों का उपयोग कैसे किया जा सकता है इस बारे में विस्तृत गाइडलाइन जारी की है। खरीफ की फसलों के लिए अनुशंसित पोषक तत्वों की पूर्ति के लिए DAP के स्थान पर उन्य उर्वरकों का उपयोग किया जा सकता है। फसलवार उर्वरक अनुशंसा के आधार पर निम्न विकल्प हो सकते हैं।  

यह भी पढ़ें:- Train Canceled CG: छत्तीसगढ़ में रेलवे ने फिर 35 ट्रेनों को किया रद्द, लगातार 4 महीने से बंद पड़ी ट्रेनें

एन.पी.के.-40ः24ः16 (नाईट्रोजन 40, फास्फोरस 24, पोटाश 16) कि.ग्रा. प्रति एकड़ मात्रा आपूर्ति के लिए निम्न उर्वरक और  मात्रा का उपयोग किया जाए:- यूरिया – एक बोरी (50कि.ग्रा.), एन.पी.के. (20ः20ः0ः13) – दो बोरी (100कि.ग्रा.) एवं पोटाश (27 कि.ग्रा.) अथवा यूरिया (65 कि.ग्रा.) एवं एन.पी.के. (12ः32ः16)- दो बोरी (100 कि.ग्रा.) एवं सिंगल सुपर फास्फेट (50 कि.ग्रा.) अथवा यूरिया दो बोरी (100 कि.ग्रा.), सिंगल सुपर फास्फेट – तीन बोरी (150 कि.ग्रा.) एवं पोटाश- 27 कि.ग्रा. का प्रयोग किया जा सकता है। साथ ही वर्मी कम्पोस्ट कम से कम 1 क्विंटल प्रति एकड़ की दर से उपयोग कर सकते हैं। (Balodabazar Agriculture Department)

खरीफ दलहनी फसलों के लिए अनुशंसित पोषक तत्व

एन.पी.के. 8ः20ः8 (नाइट्रोजन 8, फास्फोरस 20, पोटाश 8) कि.ग्रा. प्रति एकड़ मात्रा की आपूर्ति के लिए निम्न उर्वरक एवं मात्रा का उपयोग किया जाए:- यूरिया:- 18 कि.ग्रा., पोटाश 14 कि.ग्रा. एवं सिंगल सुपर फास्फेट ढाई बोरी (125 कि.ग्रा.) अथवा यूरिया 5 कि.ग्रा. एन.पी.के. (12ः32ः16) – 1 बोरी (50 कि.ग्रा.) पोटाश – 14 कि.ग्रा., सिंगल सुपर फास्फेट 25 कि.ग्रा. साथ ही वर्मी कम्पोस्ट कम से कम 1 क्ंिवटल प्रति एकड़ की दर से उपयोग कर सकते हैं।

प्रति एकड़ आपूर्ति के लिए निम्न उर्वरक का उपयोग

एन.पी.के. (8ः20ः8) (नाइट्रोजन 8, फास्फोरस 20, पोटाश 8) (सोयाबीन एवं मूंगफली) कि.ग्रा. प्रति एकड़ आपूर्ति के लिए निम्न उर्वरक और मात्रा का उपयोग किया जाए:- यूरिया (17 कि.ग्रा.) पोटाश (13 कि.ग्रा.) एवं सिंगल सुपर फास्फेट (125 कि.ग्रा.) साथ वर्मी कम्पोस्ट कम से कम 1 क्विंटल प्रति एकड़ की दर से उपयोग करें। रामतील अनुशंसित पोषक तत्वों की मात्रा (12ः12ः8) कि.ग्रा. नत्रजन, स्फूर एवं पोटाश प्रति एकड़। इस पोषक तत्वों की पूर्ति के लिए यूरिया 26 कि.ग्रा. सिंगल सुपर फास्फेट 25 कि.ग्रा. एवं म्यूरेट ऑफ पोटाश 13 कि.ग्रा. का प्रयोग किया जा सकता है, साथ ही वर्मी कम्पोस्ट 1 क्विंटल प्रति एकड़ की दर से उपयोग कर सकते हैं। (Balodabazar Agriculture Department)

गन्ना फसल के लिए अनुशंसित पोषक तत्व

एन.पी.के 120ः32ः24 (नाइट्रोजन 120, फास्फोरस 32, पोटाश 24) कि.ग्रा. प्रति एकड़ मात्रा आपूर्ति के लिए उर्वरक और मात्रा का उपयोग किया जाए:- यूरिया पांच बोरी 5 बोरी (250 कि.ग्रा.), एन.पी.के. (12ः32ः16)- दो बोरी (100 कि.ग्रा.) एवं पोटाश (14 कि.ग्रा.) अथवा यूरिया (260 कि.ग्रा.) सिंगल सुपर फास्फेट – चार बोरी (200 कि.ग्रा.) एवं पोटाश – 40 कि.ग्रा. अथवा यूरिया (200 कि.ग्रा.) एन.पी.के. (20ः20ः0ः13) – 03 बोरी (150 कि.ग्रा.) और पोटाश – 40 कि.ग्रा. का प्रयोग किया जा सकता है। साथ ही वर्मी कम्पोस्ट कम से कम 1 क्विंटल प्रति एकड़ की दर से उपयोग कर सकते हैं।

Related Articles