राशिफल 2 अक्टूबर 2021 : इन राशि वालों को रखना होगा सावधानी, क्या कहती हैं आपकी राशि, जानें अपना राशिफल

Whatsaap Strip

राशिफल 2 अक्टूबर 2021 : 02 अक्टूबर 2021, दिन-शनिवार। तिथि-सप्तमी। श्राद्ध एकादशी तिथि। नक्षत्र अश्लेषा। चन्द्र राशी –कर्क। व्रत –इन्दिरा एकादशी व्रत। कार्य सिद्ध सफल योग –निल तक। अश्व वाहन वर्षा योग – प्रबल वर्षा योग। मूल-दिन रात। राशिफल – सर्व सफलता पूर्ण दिन – तुला, कन्या राशि। सुख बाधक दिन – सिंह, धनु, मेष।

बुध तुला में –अक्टूबर तक।

अशुभ कार्य बाधक बुध राशियों हेतु – मेष, मिथुन, सिंह, तुला, कुम्भ, वृश्चिक राशी के लिए विघ्न,बाधा में कमी करेगा| जिनकी बुध दशा चल रही होगी उनको अधिक ऋणात्मक प्रभाव होगा। ग्रह का उपाय/मन्त्र बुधवार के दिन करना उपयोगी होगा। शुभ-सफलता, लंबित कार्य पूर्ण, विद्या, विवेक प्रतियोगिता में सफलता प्रद निम्न राशियों हेतु – वृष, कर्क, कन्या, धनु, मकर, मीन राशी के लिए सिद्ध होगा।

यह भी पढ़ें : छत्तीसगढ़ न्यूज : नर्स की जगह सफाई कर्मचारी लोगों को लगा रही वैक्सीन

आज 2 अक्टूबर का राशिफल 2021

मेष राशि (Aries) – चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, अ.

प्राथमिकता के आधार पर कार्य करिए | सफलता की संभावना प्रबल हैं । यह समय आपके लिए आपके प्रयासों एवं उपकार  की प्रतिष्ठा व पहचान पाने का हो सकता है । आप शत्रुओं पर विजय पाएँगे |नए मित्र भी बनाएँगे| मित्रों से सहयोग मिलेगा | प्रेम संबंध सुख पूर्ण रहेंगे।  स्वास्थ्य अच्छा रहेगा |आप नीरोग काया का आनन्द उठाएँगे ।

वृष राशि (Taurus) – ई, उ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो.

आपको अपने व्यापार अथवा कार्यालय में साधारण दिनों से अधिक परिश्रम करना पड़ सकता है । स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान दें । अनिद्रा की स्थिति एवं कार्य की चिंता भी हो सकती है ।  मानसिक रुप से आप थकान महसूस कर सकते हैं |अकर्मण्यता या आलस्य भी आप पर हावी हो सकता है ।  धार्मिक अथवा दान , पुण्य कार्य मे सफलता मिल सकती है |जनसम्पर्क से जुड़े वर्ग राजनेता,सामाजिक कल्याण,अभिकर्ता आदि को यश,सफलता एवं व्यस्तता की स्थितियाँ मिलने की संभावना है ।

मिथुन राशि (Gemini) – का, की, कू, घ, ड, छ, के, को, ह.

यह मानसिक एवं शारीरिक स्वास्थ्य से सम्बन्धित नकारात्मक परिणामों का सूचक है ।परिवार के किसी सदस्य अथवा सम्बन्धी के स्वास्थ्य पर व्यय या व्यस्तता का कारण बन सकता है ।  मानसिक रुप से आप अशांत व आस-पास के व्यक्तियों के व्यवहार के प्रति असंतुष्ट,अप्रसन्न या सशंकित रह सकते हैं । आप विवाद,विषाद, चिंता ,तनाव व मानसिक संताप को दूर रखने का भरसक प्रयास करें | आर्थिक दृष्टि से यह कठिन समय है|

कर्क राशि (Cancer) – ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो.

यह समय आपको अधिक धन उपार्जन व सम्पत्ति अर्जित करने में सहायक होगा । आपको लेनदारी या उधर दी गयी धनराशि भी प्राप्त हो सकती है ।  व्यक्तिगत रुप से यह समय आपको प्रसन्नता, सुख व व्यक्तियों के साथ आनन्ददायक है । परिवार के सदस्यों का मेलमिलाप होगा |  पुराने मित्रों के साथ पुनर्मिलन के भी सुअवसर हैं । विवाहित व्यक्तियों के दाम्पत्य सुख की पूर्ण संभावना है ।इस समय आपको सुस्वादु भोजन व घर में समस्त सांसारिक सुख मिलने की संभावना है । स्वास्थ्य उत्तम रहेगा | आप मानसिक रुप से प्रसन्न व शान्तचित्त रहेंगे । व्यापार के लिए लाभदायक विशेष  रहेगा | राजनीतिक क्षेत्र से जुड़े वर्ग के लिए उत्तम दिन है |

सिंह राशि (Leo) – मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे.

यात्रा एवं खर्च के अनायास योग बनेंगे ।कार्य परिश्रम से ही पूर्ण होंगे। कार्यालय में कार्य की अधिकता रहेगी ।कठिनाइयां बढ़ सकती हैं ।स्वास्थ्य बाधा संभव है ।राजनीति के क्षेत्र में कष्ट होगा। सामान्य तौर पर लोगों का व्यवहार सहयोगी या मित्रता पूर्ण नहीं रहेगा।

कन्या राशि (Virgo) – टो, प, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो.

आपके व आपके परिवार के लिए रोगों से मुक्त रहने सुयोग  है । जीवन में सुख शान्ति का मनोभाव आपको संतोष प्रदान करेगा ।  भावनाओं के प्रति आवश्यकता से अधिक संवेदनशील न बन जाएं । आर्थिक रुप से भी यह एक अच्छा समय है । पुराने दिए ऋणों, आर्थिक लक्ष्य प्राप्ति होगी |कार्य में उन्नति भी हो सकती है ।  अच्छे समाचार मिलेंगे| मान सम्मान एवं स्वास्थ्य उत्तम रहेगा |कार्यों की प्रगति से संतोष मिलेगा |परिवार एवं परिचितों से सहयोग प्राप्त होगा।आर्थिक स्थिति उत्तम रहेगी। व्यापारिक लाभ होगा ।यश प्रताप बढ़ेंगे।

तुला राशि (Libra) – रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते.

विशेष रुप से धन की हानि ,व्यय या विनियोजन के योग  है । अपने व्यय पर विशेष ध्यान देने रखें । आप लोगों से व्यवहार के प्रति विशेष सतर्क रहें । इन दिनों आप कोई परामर्श,बीच वचाव या विवाद में भी न पड़ें | व्यर्थ में झगड़े की संभावना है | असावधानी अहम को  ठेस पहुँचा सकती है ।  कार्यालय में बाधाएं आ सकती हैं | आप अविचलित रहें ,क्योंकि ये शीघ्र ही निकल जाएंगी ।

वृश्चिक राशि (Scorpio) – तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू.

चन्द्रमा की गोचर गति लक्ष्यों की प्राप्ति व प्रयासों में सफलता दर्शा रही है । आपकी  ख्याति एवं यश,प्रतिष्ठा वृद्धि का समय हैं ।  यह दिन धन की दृष्टि से भी सौभाग्यपूर्ण है । बकाया राशि की प्राप्ति योग हैं | व्यवसाय मे धन /लाभ के अच्छे अवसर मिलने के योग हैं |प्रयास के परिणाम अपेक्षा के अनुकूल ही रहेंगे | आर्थिक लाभ की आप आशा कर सकते हैं ।

धनु राशि (Sagittarius) – ये, यो, भ, भी, भू, ध, फ, ढ, भे.

यह माह का अच्छा समय है । यह समय इच्छापूर्त्ति, लक्ष्यप्राप्ति का है | सांसारिक व भौतिक सुख प्राप्त करने का है ।नयी योजना निर्माण एवं कार्य प्रारम्भ के लिए सर्वोत्तम समय है |सफलता निश्चित है । ग्रहों के अनुकूल होने के कारण आप व आपका परिवार सामान्य रुप से सुखी रहेंगे ।  यह समय आपके कार्यस्थल के लिए भी शुभ है । आप सम्मान, पदोन्नति एवम् प्रशंसा की आशा कर सकते हैं । निर्धारित लक्ष्य प्राप्त कर सकते हैं ।

मकर राशि (Capricorn) – भो, जा, जी, खी, खू, खे, खो, ग, गी.

शरीर स्वस्थ रहेगा। लाभ की स्थिति उत्तम है ।स्थाई लाभ की योजना बनेगी। आर्थिक खर्च बढ़ेगा। मंगल कार्य में धार्मिक कार्यों में रुचि बढ़ेगी ।स्त्री वर्ग द्वारा भाग्य की वृद्धि होगी।  भाइयों या प्रिय वर्ग पर व्यय अथवा उनसे सहयोग मिलेगा ।यात्रा के योग भी प्रबल है।इस अवधि में आपके अति उत्तम, सुस्वादु भोजन का आनन्द लेने की संभावना है ।

कुंभ राशि (Aquarius)– गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, द.

असुविधा,असहयोग,समन्वयहीन एवंअपेक्षा के विपरीत स्थिति का  समय है | किसी शुभ समाचार की आशा मत कीजिए । सूचना भी सत्यता से परे हो सकती हैं ,ध्यान नहीं देना चाहिए||यह रोजमर्रा के जीवन में परेशानियों व बाधाओं का दिन है । आर्थिक दृष्टि से भी यह काल लाभ पूर्ण नहीं है । आपको धन वसूली में कठिनाई आ सकती है। अपने उच्चाधिकारी से कार्यालय में या रोजगार स्थल पर किसी भी प्रकार की असहमति अथवा विवाद से बचें ।  स्वास्थ्य के प्रति सतर्क रहें | पाचन तंत्र व श्वसन तंत्र में समस्या हो सकती है । व्यर्थ की चिन्ता न करे  ।

मीन राशि (Pisces) – दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची.

सकारात्मक परिस्थितियों का दिन है ।यह समय सुख व कार्यों में सफलता का द्योतक है ।  आर्थिक दृष्टि से भी यह समय आपके लिए शुभ है । अटका हुआ पैसा पुन: प्राप्त हो सकता है । आपको शत्रुओं पर विजय प्राप्त करने में भी सहायक होगी । प्रेम संबंध सुख या नए मित्र हेतु यह दिन अनुकूल है । दाम्पत्य जीवन में सुख समन्वय रहेगा | आपको आमोद-प्रमोद के अवसर भी मिलेंगे । संतान आपके जीवन के सुख में और अधिक वृद्धि करेगी । स्वास्थ्य अच्छा रहेगा।

यह भी पढ़ें : आज 1 अक्टूबर से हो रहे हैं ये बदलाव, आपके लिए जानना है जरुरी, पढ़ें पूरी ख़बर

शनिवार एवं शनि  ग्रह अनिष्ट नाशक एवं सफलता के उपाय-

शमी वृक्ष पर जल अर्पण करे | पीपल वृक्ष में मिश्री मिश्रित दूध से अर्घ्य देने से लक्ष्मी की प्राप्ति होती है।पीपल के नीचे सायंकालीन समय में एक चतुर्मुख दीपक अर्पण।

ॐपिप्पलाद ,गाढ़ी,कौशिक ऋषये नमः। मन्त्र जाप।

विष्णवे नम:,हनुमतेनम:। सर्ववांछाम पूरयपूरय च सर्व सिद्धिम देहि में नम:।

बाधा मुक्ति के लिए दान-उड़द ,तिल,काला,वस्त्र,,नीले पुष्प,लोभान,करे।

दान -काली गाय,वृद्ध,सेवक,को दे सकते है।।

दिन दोष आपत्ति निराकरण के लिएघर से प्रस्थान पूर्व क्या खाएं :-

तिल,भात ,उड़द,अदरख मे से कोई या सभी पदार्थ उपयोग करना चाहिए |जिन का शनि ठीक न हो वे उड़द प्रयोग न करे |

जैन धर्म मंत्र-

णमो लोए सव्वसाहूणं| -ॐ सूर्य पुत्राय विद्महे ,मृत्यु रुपाय धीमहि ,तन्नो सौरिः प्रचोदयात् ॥

आपो ज्योति रस अमृतम |परो रजसे सावादोंम |

सूर्यपुत्रो दीर्घदेहा विशालाक्ष:शिवप्रिय:। मन्दचार: प्रसन्नात्मा पीडां हरतु मे शनि: ।।

(हे सूर्य के पुत्रदीर्घ देह विशाल नेत्रोंमंद गति से चलने वाले,भगवान् शिव के प्रिय तथा प्रसन्न आत्मा शनि मेरी पीड़ा को दूर करें।। )

नक्षत्र उपाय :

नागों की पूजा करने से नागदेव निर्भय कर देते हैं, काटते नहीं। अनन्तं वासुकिं शेषं पद्मनाभं च कम्बलं,शन्खपालं ध्रूतराष्ट्रं च तक्षकं कालियं तथा एतानि नव नामानि नागानाम च महात्मनं,सायम काले पठेन्नीत्यं प्रातक्काले विशेषतःतस्य विषभयं नास्ति सर्वत्र विजयी भवेतllइति श्री नवनागस्त्रोत्रं सम्पूर्णं ll

तिथि उपाय :

शिम्बी(सेम),मटर, चावल या चावल से बने कोई भी भोजन पदार्थ भोज्य पदार्थ वर्जित | परवल, चावल या चावल के व्यंजन उत्पाद का प्रयोग नहीं करे। जो भात भोजन में शामिल करे।

कार्य के पूर्व – विश्वेदेवों की भली प्रकार से पूजा करनी चाहिए। वे भक्त को संतानधन-धान्य और पृथ्वी प्रदान करते हैं।-ॐ विश्वेदेवाय नम:। विष्णवे नम:।

(कल्याणकारी, अहिंसित, अप्रतिरुद्ध और शत्रु नाशक समस्त यज्ञ चारों ओर से हमें प्राप्त हों अथवा हमारे पास आयें। जो हमें न छोड़कर प्रतिदिन हमारी रक्षा करते हैं, वे ही देवता सदा हमें वर्द्धित करें।[ऋग्वेद 1.89.1]अमर, अपराजित, वृद्धि से परिपूर्ण, कल्याणकारी वचन को हम ग्रहण करें जिससे विश्वेदेवा हमारी वृद्धि करते हुए रक्षक हों।) मेष ,वृश्चिक राशी वाले बाधा नाश के लिए उपाय अवश्य करे।

(राशिफल 2 अक्टूबर 2021)

Related Articles