Trending

राशिफल बुधवार 3 नवम्बर 2021 : सुखी जीवन के लिए करें यह उपाय, क्या कहती हैं आपकी राशि, जानें अपना राशिफल

Whatsaap Strip

राशिफल बुधवार 3 नवम्बर 2021 एवं सुखी जीवन के लिए करें यह उपाय : दान, मन्त्र, वर्जित भोजन (उपाय- मन्त्र  हिन्दू एवं जैन धर्म) दिनांक – 03 नवम्बर 2021, कार्तिक कृष्ण पक्ष,वैदिक मास-उर्जा, शरद ऋतु ,दक्षिणायन सूर्य|दिन- बुधवार। तिथि- त्रयोदशी-उपरांत चतुर्दशी प्रारंभ  । चन्द्र राशी –कन्या  । व्रत- धन नरक चतुर्दशी स्नान,कार्तिक स्नान। कार्य सिद्ध सफल योग –- 09:51 तक।  पंचक-नहीं, भद्रा – 09.03 से 19:35 रात्रि तक (पाताल), मूल—नहीं। विशेष- चन्द्र उदय उपरांत-इसलिए 05:35के बाद -नरक चतुर्दशी-अभ्यंग स्नान(सरसों तेल पैरों में लगाने के बाद स्नान )05:36-06:00 बजे सूर्योदय पूर्व (अंग्रेजी तारीख से 04 नवम्बर )|

 प्राकृतिक प्रकोप योग –31अक्तुबर से 30 नवम्बर तक  तापमान में विगत 03 वर्षों की तुलना में माह में न्यूनता या गिरावट रहेगी |मंगल एवं शुक्र,गुरु की स्थिति के कारण विगत 05 वर्षों की तुलना में आगामी मार्च तक शीत /ठण्ड (अधिकता) प्रकोप(रोग),एवं जनधन की हानि के योग बनेगे।

यह भी पढ़ें : 1 नवंबर से बदल जाएंगे LPG, WhatsApp, पेंशनर्स से जुड़े कई नियम, आपकी जेब पर पड़ेगा असर

राशिफल बुधवार 3 नवम्बर 2021

मेष राशि (Aries) – चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, अ.

सकारात्मक परिवर्तन होंगे। यह समय सुख व कार्यों में सफलता का द्योतक है। आर्थिक दृष्टि से भी यह समय आपके लिए शुभ है। अटका हुआ पैसा पुन: प्राप्त हो सकता है। यदि आप कोई वाहन खरीदने की सोच रहे हैं तो यही उचित समय है। आपको शत्रुओं पर विजय प्राप्त करने में भी सहायक होगी। प्रेम या नए मित्र, मित्र बनाने हेतु यह समय अनुकूल है। दाम्पत्य जीवन में सुख समन्वय रहेगा। आपको आमोद-प्रमोद के अवसर भी मिलेंगे। संतान आपके जीवन के सुख में और अधिक वृद्धि करेगी । स्वास्थ्य अच्छा रहेगा। मन की शान्ति होगी। आप स्वयं अपने आप में व परिवार के साथ शान्ति सुख एवं प्रसन्न्ता अनुभव करेंगे। दिन कुल मिलाकर सुख से परिपूर्ण कहा जा सकता है।

वृष राशि (Taurus) – ई, उ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो.

प्राथमिकता के आधार पर कार्य करिए, क्योंकि सफलता की संभावना प्रबल हैं। यह समय आपके लिए आपके हिस्से की प्रतिष्ठा व पहचान पाने का हो सकता है। आप शत्रुओं पर विजय पाएँगे। नए मित्र भी बनाएँगे। मित्रों से सहयोग मिलेगा। प्रेम संबंध सुख पूर्ण रहेंगे। स्वास्थ्य अच्छा रहेगा। आप नीरोग काया का आनन्द उठाएँगे। कुल मिलाकर इस अवधि में आप सफल एवं प्रसन्न रहेंगे। विजयश्री आपके साथ होगी। मनोबल उत्तम रहेगा। राजनीति एवं जनसम्पर्क से लाभ सफलता मिलेगी।

मिथुन राशि (Gemini) – का, की, कू, घ, ड, छ, के, को, ह.

कुछ मिले जुले परिणाम का दिन है। व्यापार मे लाभप्रद लेन-देन सम्पन्न करने में कुछ कठिनाइयाँ आ सकती हैं। विदेश जाने की योजना बना रहे हैं तो यात्रा हेतु हरी झंडी मिलने से पहले आपको कुछ बाधाएं पार करनी होंगी। अपने कार्य इच्छानुसार पूरे न कर पाने के कारण आप मानसिक रुप से अशांत खिन्न रहेंगे। वित्तीय दृष्टि से भी अपके लिए ये कठिन समय है। आपको हानि हो सकती है अत: धन व्यय करने पर नियंत्रण रखें। स्वास्थ्य का अधिक ध्यान देने की आवश्यकता है। निराशा जीवन को अकर्मण्य बना सकती है। विशेष सावधान रहें व कुछ ऐसा न करें जिससे आपकी सामाजिक प्रतिष्ठा अथवा कार्यालय में सम्मान कम हो।

कर्क राशि (Cancer) – ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो.

यह स्वास्थ्य से सम्बन्धित कुछ नकारात्मक परिणामों का सूचक है। स्वयं का व परिवार के स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखना व सावधानी बरतना आवश्यक है। परिवार के किसी सदस्य अथवा सम्बन्धी का स्वास्थ्य चिन्ता का कारण बन सकता है। मानसिक रुप से आप अशांत व आस-पास के व्यक्तियों के प्रति सशंकित रह सकते हैं। आप विषाद, व्यर्थ का भय व मानसिक संताप को दूर रखने का भरसक प्रयास करें। अपने आत्मविश्वास पर उस समय विशेष रुप से भरोसा रखें। अपने मानसिक संतुलन को स्थिरता प्रदान करके बनाए रखें। आर्थिक दृष्टि से यह कठिन समय है। खर्चे बढ़ सकते हैं। यह एक ऐसा समय है जब आपको अपने आत्मीयजनों से मधुर सम्बन्ध बनाए रखने में सतर्कता बरतनी है क्योंकि उनके द्वारा परस्पर शत्रुता पनप सकती है। अनियंत्रित क्रोध पर अंकुश रखें।

सिंह राशि (Leo) – मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे.

चन्द्रमा गति लक्ष्यों की प्राप्ति व प्रयासों में सफलता दर्शाती है। आप ख्याति का वृद्धि का समय हैं। यह समय धन की दृष्टि से भी सौभाग्यपूर्ण है। बकाया राशि की प्राप्ति, धन की प्राप्ति होसक्ति है ,प्रयास करें। कार्य के फलस्वरुप आर्थिक लाभ की आप आशा कर सकते हैं। घर के लिए भी यह समय सुख से परिपूर्ण है। आपको रुचि पूर्ण उत्तम भोजन, वस्त्र सुख योग है। आपके सामने आने वाली हर परिस्थिति निराकृत होगी। आज सम्पन्न किया गया हर कार्य आपको प्रसन्नता देगा। मन में पूर्ण संतोष का साम्राज्य रहेगा। मित्र एवं परचितों के साथ अच्छा समय व्यतीत होगा। विजय पथ के पथिक होंगे आप।

कन्या राशि (Virgo) – टो, प, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो.

विशेष रुप से धन की हानि के योग है। अपने व्यय पर विशेष ध्यान देने रखें। आप लोगों से व्यवहार के प्रति विशेष सतर्क रहें। इन दिनों आप कोई परामर्श,बीच वचाव या विवाद में भी न पड़ें। व्यर्थ में झगड़े की संभावना है। अपना सम्मान व प्रतिष्ठा बचाए रखें। असावधानी अहम को ठेस पहुँचा सकती है। कार्यालय में बाधाएं आ सकती हैं। आप अविचलित रहें क्योंकि ये शीघ्र ही निकल जाएंगी। विश्वास रखें, परिश्रम का फल अवश्य मिलता है। शारीरिक रुप से आप स्वास्थ्य में गिरावट महसूस करेंगे। मानसिक रुप से असंतोष अनुभव करेंगे। आपको भोजन भी इतना रुचिकर नहीं लगेगा। दिन में एक असंतोष सा रहेगा।

तुला राशि (Libra) – रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते.

यात्रा स्थगित, धैर्य, अल्पभाषी सफलता का मूल रहेगा | मन पसन्द इच्छित भोजन का आनन्द मिलने का योग है। आपको सुस्वादु मनचाहा भोजन, सुविधापूर्वक उपलब्ध होगा। आपको शारीरिक सुख-साधन, उत्तम वस्त्र व सुगंध तथा अन्य इच्छित सांसारिक वस्तुएं मिलेंगी। इस समय सर्वोत्तम मित्र व परिचित मिलेंगे। आपके पारिवारिक जीवन में भी आम दिनों की तुलना में अधिक आनन्द होगा। प्रेम या दाम्पत्य जीवन में आप अपने साथी के प्रेम में वृद्धि की आशा कर सकते हैं। सौभाग्य, सुख व उच्चतम सम्मान इस अवधि की विशेषता है। आपके व आपके परिवार के लिए रोगों से मुक्त रहने सुयोग है। जीवन में सुख शान्ति का मनोभाव आपको संतोष प्रदान करेगा। भावनाओं के प्रति आवश्यकता से अधिक संवेदनशील न बन जाएं। आर्थिक रुप से भी यह एक अच्छा समय है। पुराने दिए ऋणों, आर्थिक लक्ष्य प्राप्ति होगी। कार्य में उन्नति भी हो सकती है।

वृश्चिक राशि (Scorpio) – तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू.

यात्रा एवं निर्णय स्थगित रखे। आर्थिक दृष्टि से यह समय कठिनाइयों से परिपूर्ण है। खर्चे बढ़ेंगे। अपनी धन सम्पदा का ध्यान रखें। अपव्यय से बचें। अपने द्वारा किए जा रहे कार्यों के प्रति विशेष सचेत रहें। संभव है आपको मनवांछित फल न मिले। स्वास्थ्य की ओर ध्यान देने की आवश्यकता है। मानसिक रुप से आप व्यथा व बैचेनी अनुभव कर सकते हैं। अकर्मण्यता अथवा ईर्ष्या की भावना से भी त्रस्त हो सकते हैं। अपने निर्णय लेने में तथा दूसरों से व्यवहार के प्रति विशेष सतर्क रहें तथा आवेश में न आएँ। योजनाओं को क्रियान्वित करने से पूर्व सोच लें। घर पर भी सावधान रहें, सगे-सम्बन्धियों से व्यर्थ की शत्रुता संभव है।

धनु राशि (Sagittarius) – ये, यो, भ, भी, भू, ध, फ, ढ, भे.

यह समय आपको अधिक धन उपार्जन व सम्पत्ति अर्जित करने में सहायक होगा। आपको अटकी हुई धनराशि भी प्राप्त हो सकती है। व्यक्तिगत रुप से यह समय आपको प्रसन्नता, सुख व विपरीत लिंग वाले व्यक्तियों के साथ आनन्ददायक है। परिवार के सदस्यों का मेलमिलाप होगा। पुराने मित्रों के साथ पुनर्मिलन के भी सुअवसर हैं। विवाहित व्यक्तियों के दाम्पत्य सुख की पूर्ण संभावना है। इस समय आपको सुस्वादु भोजन व घर में समस्त सांसारिक सुख मिलने की संभावना है। स्वास्थ्य उत्तम रहेगा व इस पूरे काल में आप मानसिक रुप से प्रसन्न व शान्तचित्त रहेंगे। व्यापार के लिए लाभदायक विशेष रहेगा। राजनीतिक क्षेत्र से जुड़े वर्ग के लिए उत्तम दिन है।

मकर राशि (Capricorn) – भो, जा, जी, खी, खू, खे, खो, ग, गी.

उपदेश देने से बचे। यह माह का अच्छा समय है। यह समय इच्छापूर्त्ति, लक्ष्यप्राप्ति का है। तथा सांसारिक व भौतिक सुख प्राप्त करने का है। यदि आप कुछ नया करने की योजना बना रहे हैं तो यही उपयुक्त समय है क्योंकि इसमें सफलता निश्चित है। इस काल के अनुकूल होने के कारण आप व आपका परिवार सामान्य रुप से सुखी रहेंगे। यह समय आपके कार्यस्थल के लिए भी शुभ है। आप सम्मान, पदोन्नति एवम् प्रशंसा की आशा कर सकते हैं। इस समय आप सत्ता में अधिकारी के पद पर आसीन हो सकते हैं तथा निर्धारित लक्ष्य प्राप्त कर सकते हैं । इस विशेष समय में आपकी सामाजिक प्रतिष्ठा भी बढ़ेगी। स्वास्थ्य इस अवधि में सामान्यत: अच्छा रहेगा। इस अवधि में आपके अति उत्तम, सुस्वादु भोजन का आनन्द लेने की संभावना है।

कुंभ राशि (Aquarius)– गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, द.

आपको अपने व्यापार अथवा कार्यालय में साधारण दिनों से अधिक परिश्रम करना पड़ सकता है। स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान दें। अनिद्रा की बीमारी भी हो सकती है। मानसिक रुप से आप थकान महसूस कर सकते हैं व अकर्मण्यता या आलस्य भी आप पर हावी हो सकता है। आप किसी धार्मिक अनुष्ठान अथवा दान जैसा पुण्य कार्य सफलतापूर्वक करेंगे। आपको समाज में प्रसिद्धि भी मिलने की संभावना है। घर व धन सम्बन्धी कठिनाइयाँ झेलनी पड़ सकती है। धन-व्यय के समय विशेष सचेत रहें। शत्रुओं पर विशेष नजर रखें क्योंकि उन्हीं के कारण हानि होने की संभावना है। संतान से विवाद अथवा झगड़ा न करें। व्यर्थ के टकराव में न पड़कर समाज में अपनी प्रतिष्ठा व सम्मान बचाए रखें। मानसिक रुप से आप चिन्ता व अत्यधिक कार्यभार के कारण पीडि़त हो सकते हैं।

मीन राशि (Pisces) – दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची.

असुविधा, असहयोग, समन्वयहीन, अपेक्षा के विपरीत स्थिति का समय है। किसी शुभ समाचार की आशा मत कीजिए। सूचना भी सत्यता से परे हो सकती हैं। यह रोजमर्रा के जीवन में परेशानियों व बाधाओं का दिन है। आर्थिक दृष्टि से भी यह काल लाभ पूर्ण नहीं है। आपको धन वसूली में कठिनाई आ सकती है। अपने वरिष्ठ व उच्चाधिकारी से कार्यालय में किसी भी प्रकार की असहमति अथवा विवाद से बचें। स्वास्थ्य के प्रति सतर्क रहें क्योंकि पाचन तंत्र व श्वसन तंत्र में समस्या हो सकती है। व्यर्थ की चिन्ता न करे।

आज के वैदिक उपाय 

सफलता के लिए, नक्षत्र कृत अरिष्ट नाशक मंत्र : “ॐ ऐं ह्रीं क्लीं सरस्वत्यै नम:” बेल पत्र के वृक्ष पर जल अर्पण करे। भगवान त्वष्टा का स्मरण करे। शत्रुरहित राज्य प्रदान करते हैं। ॐ त्वष्टाये नम:। दूध दान करना चाहिए।    

दिन के अनिष्ट रोकने के उपाय : हरा धनिया या कच्चा दूध पीकर निकले। सर्व सिद्धिम,सफलताम च सर्व वान्छाम पूरय पूरय में नम:|

  1.  सौभाग्य वृद्धिके लिए 1-स्नान जल मे नदी या तीर्थ जल,चावल,मोती  शहद,जायफल ,पिपरामुल ,नदी या तीर्थ जल;मिलाकर स्नान करे।
  2.  बाधा मुक्ति के लिए दान– मूंग ,हरा वस्त्र ,हरीचूड़ी,पालक ,फल कपूर|दान -कन्या,व्यापारीकिन्नरको दे।
  3.  कार्य के लिए घर से प्रस्थान पूर्व खाएं–मूंग ,तिल,धनिया ,दूध मे से कोई पदार्थ।  जिनका बुध अनुकूल हो वे दही Curd अवश्य ले सकते हैं।
  4.  मंत्र-बुध गायत्री मंत्र- ओम सौम्यरूपाय विद्महे बाणेशाय धीमहि तन्नो बुध प्रचोदयात् ।|आपो ज्योति रस अमृतम |परो रजसे साव दोम।

जैन धर्म मंत्र-

श्री विमलनाथ या श्री मल्लिनाथ भगवान का स्मरण करे-ॐ ह्रीं णमो उवज्झायाणं |ॐ ह्रीं बुधग्रह अरिष्टनिवारक-श्री मल्लिनाथ जिनेन्द्राय नम: सर्वशांतिं कुरुकुरु स्वाहा।मम (.अपना नाम.) दुष्ट ग्रह रोग कष्ट निवारणं सर्वशांतिं कुरू कुरू हूँ फट् स्वाहा।

तिथि दोष उपाय : बैंगन भोजन में वर्जित। आवला व्यंजन उत्पाद (शेम्पू, तेल, मुरब्बा आदि) का प्रयोग नहीं करे। गुड़ भोजन में शामिल करे। कार्य के पूर्व   – कामदेव की पूजा से पत्नी सुख ,विवाह, तथा कामनाएं पूर्ण होती हैं। क्लीं कामदेवाय नमः” सिंह,धनु,कुम्भ  राशी वाले बाधा नाश के लिए अवश्य करे।

Related Articles