CM भूपेश बघेल ने डोंगरगढ़ स्थित मां बम्लेश्वरी मंदिर में की पूजा-अर्चना

Whatsaap Strip

Bamleshwari Mandir: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने नवरात्रि के पावन अवसर पर प्रथम दिन डोंगरगढ़ स्थित माता बम्लेश्वरी की पूजा-अर्चना की। मुख्यमंत्री ने मां बम्लेश्वरी से प्रदेश की सुख, शांति एवं खुशहाली के लिए प्रार्थना की। उन्होंने माता बम्लेश्वरी मंदिर में श्रीफल, माता की चुनरी और पूजन सामग्री चढ़ाई और विधि-विधान पूर्वक मंत्रोच्चार के साथ पूजा आरती की। मुख्यमंत्री ने कहा कि माता बम्लेश्वरी मंदिर का विशेष महत्व है। सच्चे मन से जो भी भक्त माता बम्लेश्वरी के मंदिर आता है, उसकी मनोकामना पूरी होती है।

यह भी पढ़ें:- नवरात्रि के 9 दिनों तक पहने माता के पसंदीदा रंग के कपड़े, जानिए माता को क्या कलर हैं पसंद

मुख्यमंत्री के साथ अध्यक्ष अनुसूचित जाति प्राधिकरण और डोंगरगढ़ विधायक भुनेश्वर बघेल, अध्यक्ष युवा आयोग जितेन्द्र मुदलियार, खुज्जी विधायक छन्नी साहू, अध्यक्ष जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक राजनांदगांव नवाज खान, वरिष्ठ जनप्रतिनिधि पदम कोठारी, मां बम्लेश्वरी मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष मनोज अग्रवाल, उपाध्यक्ष अनिल गट्टानी सहित अन्य स्थानीय जनप्रतिनिधियों ने भी मां बम्लेश्वरी की पूजा-अर्चना की। (Bamleshwari Mandir)

CM ने सती चौरा मंदिर में की पूजा

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल नवरात्रि के अवसर पर दुर्ग में स्थित सती चौरा मंदिर में माता जी की दर्शनकर प्रदेश की सुख-समृद्धि की कामना की। वहीं राज्यपाल अनुसुईया उइके ने शारदीय नवरात्रि के प्रथम दिन राजभवन के उपासना कक्ष में मां दुर्गा की पूजा-अर्चना कर देश और प्रदेश की सुख-समृद्धि और खुशहाली की कामना की। राज्यपाल ने इस अवसर पर प्रदेशवासियों को शारदीय नवरात्रि की शुभकामनाएं भी दी। (Bamleshwari Mandir)

   

बता दें कि नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा की जाएगी। इस दिन लाल रंग का उपयोग करना बेहद शुभ माना गया है। लाल रंग साहस, पराक्रम और प्रेम का प्रतीक होता है। वहीं शारदीय नवरात्रि का तीसरे दिन मां चंद्रघंटा की पूजा की जाती है। मां चंद्रघंटा की आराधना में नारंगी रंग के वस्त्र धारण कर पूजा करने से सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। नवरात्रि का चौथा दिन गुरुवार को मां कूष्मांडा की पूजा होती है। इस दिन पीला रंग का वस्त्र धारण करना चाहिए, पीला रंग उमंग का प्रतीक है। (Bamleshwari Mandir)

शारदीय नवरात्रि मे पांचवा दिन शुक्रवार को मां स्कंदमाता की आराधना की जाती है। इस दिन हरे रंग का प्रयोग करने से ऊर्जावान रहने में मदद मिलेता है। हरा रंग कुछ नया करने के लिए हमेशा प्रेरित करता है। नवरात्रि के छठे दिन यानी शनिवार को मां कात्यानी की पूजा की जाएगी। नवरात्रि में ग्रे यानी स्लेटी रंग के बुराईयों को नष्ट करने वाला माना गया है।

नवरात्रि के सातवें दिन यानी रविवार को मां कालरात्रि को समर्पित किया गया है। मां काली की पूजा में नीलें रंग का उपयोग शुभ माना गया है, नीला रंग निडरता का प्रतिक है। नवरात्रि के आठवें दिन यानी सोमवार को महाअष्टमी पर मां महागौरी की पूजा की जाती है। माता महागौरी को जामुनी रंग अतिप्रिय है। इस दिन कन्या पूजन का भी विधान है। नवरात्रि का आखिरी दिन मंगलवार को मां सिद्धिदात्री की उपासना की जाएगी। सिद्धिदात्री देवी को ज्ञान प्रदान करने वाली देवी माना गया है। इस दिन गुलाबी रंग का इस्तेमाल करें। गुलाबी रंग प्रेम और नारीत्व का सूचक है। (Bamleshwari Mandir)

Related Articles