भाई भूपेश बघेल की कलाई पर बांधी जाएगी प्राकृतिक रूप से बनाई गई बिहान की राखियां- किरणमयी नायक

Whatsaap Strip

छत्तीसगढ़। राजनांदगांव

पूरा देश रक्षाबंधन पर्व की तैयारियों में लगा हुआ है। छत्तीसगढ़ के जिला राजनांदगांव के बिहान स्वसहायता समूह की महिलाएं अपने घरों में अपने हाथों से धान, चावल, गेहूं, दाल, फल एवं सब्जियों के बीज आदि के माध्यम से रंग बिरंगी राखी का निर्माण कर रही है। ये महिलाएं राजनांदगांव शहर के जगह जगह स्टाल लगाकर अपनी राखियां बेचकर स्वावलंबी बनाने की ओर अग्रसर है। उल्लेखनीय है कि इन महिलाओं के द्वारा आज अपनी हस्तनिर्मित राखियों को राष्ट्रीय स्तर के ऑनलाइन बाजार प्लेटफार्म अमेजॉन पर पंजीकृत कर पूरे देश के किसी भी शहर से ऑनलाइन क्रय हेतु उपलब्ध कराया गया है।

Read More- मुख्यमंत्री और राज्यपाल ने दी प्रदेशवासियों को रक्षाबंधन की शुभकामनाएं, कहा – सभी के लिए खुशहाली लेकर आए ये त्यौहार 

ऑनलाइन बाजार प्लेटफॉर्म अमेजॉन में महिला स्वसहायता समूह द्वारा निर्मित राखियों की सुर्खियां पूरे देश में फैलने लगी है। इसी कड़ी में आज छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ. किरणमयी नायक ने आज इन स्वसहायता समूह की महिलाओं के द्वारा हस्तनिर्मित राखियों को अपने मोबाइल से घर बैठे पसंद कर ऑनलाइन बाजार प्लेटफार्म अमेजॉन के माध्यम से ऑर्डर किया। डॉ. नायक इस पर कहती है कि यह राखियां मैंने हमारे प्रदेश के जन नेता हर बहन के भाई मुख्यमंत्री बड़े भैया श्री भूपेश बघेल की कलाइयों के लिए विशेषकर आर्डर की है।

उल्लेखनीय है कि हमारे राज्य छत्तीसगढ़ की स्वसहायता समूह की महिलाएं आज किसी फैक्ट्री, कंपनी और उद्योग के ऑनलाइन उपलब्ध सामानों की तरह अपनी हस्तनिर्मित राखियों को ऑनलाइन बाजार में पंजीकृत कर राष्ट्रीय स्तर के बाजार में भी अपनी और छत्तीसगढ़ की पहचान बन रही है।

Read More- इस रक्षाबंधन पर बन रहे हैं दो विशेष मुहूर्त, भाई की लम्बी आयु के लिए राखी बांधते समय पढ़ें ये मंत्र

छत्तीसगढ़ प्रदेश की महिलाओं को हक दिलाने के लिए लगातार प्रयासरत छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ. किरणमई नायक द्वारा राज्य के समस्त महिलाओं का प्रतिनिधित्व करते हुए हमारे मुख्यमंत्री सभी महिलाओं के बड़े भैया भूपेश बघेल की कलाइयों हेतु रक्षा के बंधन माने जाने के लिए महिला स्व सहायता समूह के द्वारा हस्त निर्मित राखी बांधा जाना ही उपयुक्त होगा। इसलिए महिला स्वसहायता समूह की ऑनलाइन दर्ज राखी को प्रोत्साहित करते हुए यह आर्डर किया गया है।

Related Articles