पशुओं में होने वाली क्रूरता को रोकने लोगों को करें जागरूक, कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश

Whatsaap Strip

Chhattisgarh Animal Welfare Board: छत्तीसगढ़ जीव जंतु कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष विद्याभूषण शुक्ला ने जिला पशु क्रूरता निवारण समिति की बैठक लेकर संबंधित अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए। उन्होंने सर्वप्रथम पशुओं में होने वाली क्रूरता और रोकथाम के उपाय के संबंध में जानकारी ली। बैठक में बताया गया कि डेयरी फार्म के पर्ची के आधार पर अवैध पशु परिवहन हो रहे हैं, जिसे तत्काल प्रभाव में रोका जाना चाहिए। इस संबंध में अध्यक्ष ने पशु चिकित्सा विभाग को निर्देशित किया गया कि समस्त डेयरी फार्म को पशु क्रय-विक्रय की जानकारी के संबंध में पत्राचार किया जाए।

यह भी पढ़ें:- T-20 के बाद वनडे में भी नंबर-1 बना भारत, श्रीलंका के बाद न्यूजीलैंड का भी सफाया

इसी तरह पुलिस विभाग को निर्देशित किया गया कि समस्त थानों को निर्देशित करें कि अवैध पशु परिवहन को रोकने कड़ी कार्रवाई की जाए। पशु को परिवहन करने वाले वाहन को राजसात किया जाए। पशुओं के प्रति बच्चों और अन्य को जागरूक करने विभिन्न आयोजन और पाठ्यक्रम में पंचतंत्र को शामिल करने जिला शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिए गए। पशुओं के अवैध परिवहन को रोकने और अधिनियम का कड़ाई से पालन संबंधी निर्देश दिए गए। (Chhattisgarh Animal Welfare Board)

अवैध रूप से पशु पक्षी के क्रय विक्रय पर रोक लगाने तत्काल कार्रवाई करने के भी निर्देश दिए गए। पशुओं में होने वाली क्रूरता को रोकने के लिए लोगों को करें जागरूक करने के दिए निर्देश। प्रतिबंधित दवाईयों के उपयोग को तत्काल बंद किए जाने पर बल दिया गया। इसके साथ ही प्रतिबंधित दवाइयों के विक्रय पर रोक लगाने संबंधी कार्रवाई किए जाने की बात कही गई। जनसख्या नियंत्रण कार्यक्रम के तहत नगर निगम में संलग्न विभागीय पशु चिकित्सकों के कार्य की प्रशंसा की गई और निर्देशित किया गया कि अन्य जिलों में भी इस प्रकार के कार्यक्रम चलाया जाए। (Chhattisgarh Animal Welfare Board)

पशु चिकित्सकों ने बताया कि तीन वर्षाे से लगभग 20 हजार लावारिस श्वान का बधियाकरण किया गया है। बैठक में संयुक्त संचालक पशु चिकित्सा सेवाएं जिला रायपुर द्वारा पशु क्रूरता अधिनियम और जिले में चल रहे कार्यों की जानकारी दी गई। उपाध्यक्ष छ.ग. जीव जन्तु कल्याण बोर्ड ने कहा कि जागरूकता से ही पशुओं में होने वाली क्रूरता को रोका जा सकता है। इस संबंध में जिला शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिया गया कि स्कूल में बच्चों को जागरूक किया जायें। बैठक में उपाध्यक्ष आलोक चन्द्राकर और सदस्य मदन देवांगन, पुलिस विभाग, नगर निगम, शिक्षा विभाग, वन विभाग के अधिकारियों के साथ पशु चिकित्सा विभाग के अधिकारी उपस्थित थे। (Chhattisgarh Animal Welfare Board)