छत्तीसगढ़ में चाइल्ड हेल्पलाइन को प्रभावी बनाने पुलिस के साथ इंटीग्रेशन, पढ़ें पूरी खबर

Chhattisgarh Child Helpline: छत्तीसगढ़ में बच्चों और महिलाओं को त्वरित सहायता उपलब्ध कराने के उद्देश्य से 24 घंटे आपातकालीन सेवा के रूप में बच्चों के लिए हेल्पलाइन C.H.L.-1098 और महिलाओं के लिए हेल्पलाइन W.H.L.-181 संचालित है, जिसमें हेल्पलाइन को ज्यादा प्रभावी बनाने के लिए पुलिस विभाग की ओर से संचालित E.R.S.S.-112 के साथ इंटीग्रेशन किया जा रहा है। हेल्पलाइन को प्रभावी बनाने के उद्देश्य से मंत्रालय महानदी भवन में महिला एवं बाल विकास की सचिव शम्मी आबिदी ने सी-डैक तिरुवनंतपुरम, पुलिस विभाग की E.R.S.S.-112 की टीम, BSNL, रेलवे और महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारियों की संयुक्त बैठक ली।

यह भी पढ़ें:- पूर्व CM के गढ़ में खूनी खेल, युवक ने 8 लोगों की हत्या के बाद लगाई फांसी

उन्होंने अधिकारियों को हेल्पलाइन को बच्चों और महिलाओं की त्वरित मदद के लिए प्रभावी बनाने के निर्देश दिए। बैठक में संचालक महिला एवं बाल विकास तुलिका प्रजापति भी मौजूद थी। सचिव शम्मी आबिदी ने पिछली बैठक में दिए गए निर्देश के परिपालन की विस्तृत समीक्षा की। बैठक में जानकारी दी गई कि वर्तमान में सभी 33 जिलों में चाइल्ड हेल्पलाइन संचालन के लिए हार्डवेयर लगाया जा चुका है। 32 जिलों में चाइल्ड हेल्पलाइन का W.H.L. कंट्रोल रूम से इंटीग्रेशन कर संचालन शुरू हो चुका है। इंटीग्रेशन की कार्रवाई पूरी करने के लिए सी-डैक और BSNL के अधिकारियों को निर्देश दिए गए। (Chhattisgarh Child Helpline)

राज्य के 27 जिलों के वन स्टॉप सेंटर (सखी सेंटर) में महिला हेल्पलाइन यूनिट की स्थापना और इंटीग्रेशन कर संचालन किया जा रहा है। सचिव, महिला एवं बाल विकास ने रेलवे रायपुर और बिलासपुर से आए अधिकारियों समेत विभागीय अधिकारियों को निर्देशित किया। साथ ही कहा कि बच्चों के सर्वाेत्तम हित में रायपुर और बिलासपुर रेलवे स्टेशन के उपयुक्त स्थान पर चाइल्ड हेल्पलाइन का संचालन किया जाए। इस संबंध में उन्होंने संबंधित आधिकारियों को जल्द कार्रवाई सुनिश्चित करने और अधिकारियों को स्वयं स्थल का निरीक्षण कर प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। सचिव, महिला एवं बाल विकास ने चाइल्ड हेल्पलाइन-1098और W.H.L.-181 में प्राप्त प्रकरणों की विस्तृत समीक्षा की और लंबित प्रकरणों के शीघ्र निराकरण के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए। (Chhattisgarh Child Helpline)

Related Articles

Back to top button