Trending

CM Gehlot Accuses: CM गहलोत ने पायलट पर लगाया सरकार गिराने की साजिश में शामिल होने का आरोप, सियासत तेज

Whatsaap Strip

CM Gehlot Accuses: महाराष्ट्र में जारी राजनीतिक संकट के बीच राजस्थान में भी सियासत तेज हो गई है। दरअसल, CM अशोक गहलोत की ओर से सीकर में दिए गए बयान ने फूट का एक और उदाहरण दे दिया है। एकजुटता के तमाम दावों के बावजूद गहलोत-पायलट के बीच मन-मुटाव जगजाहिर है, लेकिन सियासी संकट दूर होने के बाद ये पहली बार है जब गहलोत ने सीधे तौर पर सचिन पायलट पर सरकार गिराने की साजिश में शामिल होने का आरोप लगाया है। बीते लंबे समय से गहलोत-पायलट के बीच कोल्ड वार चल रहा था, लेकिन दोनों खुले तौर पर एक-दूसरे का नाम लेने से बच रहे थे।

यह भी पढ़ें:- Policemen Transferred: न्यायधानी में कई पुलिसकर्मियों का ट्रांसफर, SP ने जारी किया आदेश

CM गहलोत केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत पर बोल रहे थे, लेकिन बयान की सुई शेखावत के साथ सचिन पायलट पर भी घूम गई। दरअसल, गजेंद्र सिंह शेखावत ने कुछ दिनों पहले सचिन पायलट से चूक होने का बयान दिया था। इस पर CM गहलोत ने पलटवार करते हुए कहा कि इससे प्रूव हो गया कि सरकार गिराने की साजिश में आप सचिन पायलट के साथ मिले हुए थे। CM गहलोत का ये बयान आते ही राजनीतिक गलियारों में इसे लेकर चर्चा शुरू हो गई। कयास लगाए जाने लगे कि आखिर CM गहलोत ने सीधे तौर पर सचिन पायलट का नाम क्यों लिया। मुख्यमंत्री के इस बयान को राहुल गांधी द्वारा बीते दिनों दिए गए बयान से भी जोड़कर देखा जाने लगा है। (CM Gehlot Accuses)

‘सचिन पायलट ने काफी पेशेंस रखा’

बता दें कि दिल्ली में कांग्रेसियों को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा था कि मैंने और सचिन पायलट ने काफी पेशेंस रखा है। राहुल गांधी के इस बयान को बड़ा सियासी इशारा समझा गया। सचिन पायलट के करीबी और उनके समर्थक ये मानकर चल रहे हैं कि प्रदेश में जुलाई महीने में बड़ा सियासी उलटफेर होने वाला है। अब मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बयान को भी पायलट समर्थक इसी सियासी अटकल से जोड़ रहे हैं। पायलट समर्थक हालांकि कैमरे पर कुछ भी बोलने से बच रहे हैं, लेकिन ऑफ द रिकॉर्ड ये कहा जा रहा है कि मुख्यमंत्री ने ये बयान पायलट समर्थकों को उकसाने के लिए दिया है। (CM Gehlot Accuses)

बयान के अलग-अलग मायने

जनीति के जानकारों का कहना है कि CM गहलोत सियासत के माहिर खिलाड़ी हैं। उन्हें पता होता है कि कब, क्या बात कितने शब्दों में बोलनी है। उनका हर एक शब्द नपा-तुला और गहरे अर्थ वाला होता है। ऐसे में सचिन पायलट को लेकर बयान भी सोच समझकर ही दिया गया होगा। फिलहाल अलग-अलग बातें हैं। सब अपनी-अपनी तरह से इस बयान के मायने निकालने में लगे हैं। बयान के पीछे CM की असली मंशा क्या थी वह तो वो ही जाने, लेकिन सियासी हलकों में इसे सूबे की सियासत से जुड़े बड़े संकेत के रूप में देखा जा रहा है। बता दें कि महाराष्ट्र में सियासी संकट जारी है। शिंदे गुट के विधायक ने सरकार से अपना समर्थन ले लिया है। वहीं मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गया है, जहां सुनवाई के दौरान ने कोर्ट ने सभी पक्षों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। साथ ही डिप्टी स्पीकर की भूमिका पर भी सवाल उठाए हैं। (CM Gehlot Accuses)

Related Articles