आम आदमी के लिए खुशखबरी! त्योहारी सीजन में घट सकती है तेल की कीमतें

Whatsaap Strip

न्यूज डेस्क : आम आदमी के लिए जरूरी खबर आ रही है. इस त्योहारी सीजन में खाने का तेल (Edible oil) सस्ता हो सकता है. जी हां.. खाना पकाने के तेल की कीमतें (Edible oil price) घट सकती है. दरअसल, फेस्टिव सीजन (Festival Season) पर आम लोगों को राहत देने के लिए केंद्र सरकार (Government of India) पूरी तैयारी में है. केंद्र सरकार ने राज्यों को इस त्योहारी सीजन में ग्राहकों को “तुरंत” आयात शुल्क में कटौती के लाभों को पारित करने के लिए कहा है. इससे पहले, केंद्र सरकार (Modi Govt) ने कच्चे तेल की किस्मों पर मूल सीमा शुल्क (Custom duty) को समाप्त करने का फैसला लिया था. आसान शब्दों में कहे तो सरकार ने पाम (Palm oil) और सन फ्लॉवर ऑयल (Sunflower Oil) पर एग्री सेस (Agri Cess) और कस्टम ड्यूटी (Custom Duty) को घटा दिया है.

इसे भी पढ़े: अब हर घर तक पहुंचेगी सस्ती दवाइयां, CM भूपेश बघेल शुरू करने जा रहे ये योजना

सरकार ने पाम, सोयाबीन और सूरजमुखी के तेल की कच्ची किस्मों पर मार्च, 2022 तक के लिए कृषि उपकर में कटौती की. इसके अलावा इनपर कृषि उपकर में भी कटौती की गई है. यह एक ऐसा कदम है जो त्योहारी मौसम में खाद्य तेलों की कीमतों को कम करने और घरेलू उपलब्धता को बढ़ाने में मदद करेगा.कच्चे पाम तेल, कच्चे सोयाबीन तेल और कच्चे सूरजमुखी तेल पर मूल शुल्क 2.5 प्रतिशत से घटाकर शून्य कर दिया गया है. कच्चे पाम तेल के लिए कृषि उपकर 20 प्रतिशत से घटाकर 7.5 प्रतिशत और कच्चे सोयाबीन तेल व कच्चे सूरजमुखी तेल के लिए 5 प्रतिशत कर दिया गया है.

 इसे भी पढ़े: केंद्रीय कर्मियों को मिलेगा बोनस, केंद्र ने दी मंजूरी, केंद्रीय अर्धसैनिक बल के कर्मचारी भी शामिल

सरकार की ओर से जारी नोटिफिकेशन के मुताबिक, खाद्य तेल पर कस्टम ड्यूटी में कटौती की है. साथ ही एग्री सेस भी घटाया है. हाल में जारी परिपत्र के मुताबिक, क्रूड पाम तेल पर ड्यूटी घटाकर 8.25% (पहले 24.75%) , RBD पामोलीन पर 19.25 (पहले 35.75), RBD पाम तेल पर 19.25 (पहले 35.75), क्रूड सोया तेल पर 5.5 (पहले 24.75), रिफाइंड सोया तेल पर 19.5 (पहले 35.75), क्रूड सूरजमुखी तेल पर 5.5 (पहले 24.75) और रिफाइंड सूरजमुखी तेल पर 19.25 (पहले 35.75) की गई. ड्यूटी घटाए जाने से CPO के भाव में 14,114.27, RBD के 14526.45, सोया तेल के 19351.95 रुपए प्रति टन घटे है. बता दें कि शुल्क में कटौती 14 अक्टूबर से प्रभावी हो गई है और यह 31 मार्च, 2022 तक लागू रहेगी.

Related Articles