Trending

छत्तीसगढ़ में भारी बारिश के आसार, मौसम विभाग ने जारी किया रेड अलर्ट

Whatsaap Strip

न्यूज डेस्क 

मौसम विभाग ने छत्तीसगढ़ (chhattisgarh mausam jankari) के कई जिलों में भारी बारिश की आशंका जताई है। अगले 24 घंटे के लिए विभाग ने रेड अलर्ट जारी कर दिया है।

भारतीय मौसम विभाग (Indian Meteorological Department) के मुताबिक पूर्वी, मध्य और उत्तर पश्चिम भारत में ज्यादा बारिश की संभावना है। इसके पीछे बंगाल की खाड़ी में दो मौसमी चक्रवात (Cyclonic System in Bay of Bengal) की स्थितियां बनना मुख्य कारण है।इस दौरान बिजली गिरने की भी आशंका जताई गई है। पूर्वानुमान के मुताबिक पूर्वी राजस्थान और गुजरात में भारी बारिश हो सकती है।पश्चिमी राजस्थान में भी हल्की बारिश हो सकती है। इसके साथ ही तमिलनाडु और पुड्डुचेरी में भी भारी बारिश के आसार हैं।

देश के अधिकांश हिस्सों में बारिश होगी

हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश के पूर्वी हिस्से, मध्य प्रदेश, झारखंड, गंगीय पश्चिम बंगाल, ओडिशा, छत्तीसगढ़, तटीय आंध्र प्रदेश में भी भारी बारिश होने का अनुमान मौसम विभाग ने जताया है।वहीं दिल्ली में दो दिन का ब्रेक लेने के बाद मानसून अगले सप्ताह फिर सक्रिय होगा और 21-22 सितंबर को राजधानी और उसके आसपास के क्षेत्रो में बारिश हो सकती है। मौसम विभाग के मुताबिक अगले पांच दिनों तक देश के कई राज्यों में भारी बारिश होने की संभावना है।

यह भी पढ़ें : छत्तीसगढ़ में मंडराता डेंगू का खतरा… कोरोना से ज्यादा मिल रहे डेंगू टाइप-2 के मरीज

प्रदेश में भी भारी बारिश

मौसम विभाग के मुताबिक, दुर्ग संभाग के सभी जिले, बिलासपुर संभाग के मुंगेली और बस्तर संभाग के कांकेर में अति भारी बारिश की चेतावनी दी।इन इलाकों मे रेड अलर्ट (Red Alert) जारी कर दिया गया है। विभाग के मुताबिक, बुधवार को भी कई इलाकों में भारी बारिश हो सकती है।

यह भी पढ़ें : NCRB की रिपोर्ट पर सियासत, चाउर वाले बाबा पर CM का पलटवार, BJP ने तो कभी आंकड़े भी नहीं बताए…

भारी बारिश की वजह से गरियाबंद जिले के 30 गांव बुरी तरह प्रभावित हो गए है।कई कच्चे मकानों को नुकसान पहुंचा है। कलेक्टर ने तत्काल राहत और बचाव के निर्देश दे दिए है। लोगों को रेस्क्यू कर सरकारी भवनों में शिफ्ट कर दिया गया है।बारिश की वजह से सिकासर बांध लबालब हो गया है। बांध के 17 गेट खोल दिए गए है। पैरी नदी में 11 हजार क्यूसिक पानी छोड़ा गया है। नदी किनारे के गांवों के ग्रामीणों को अलर्ट कर दिया गया है।इन इलाकों में प्रशासन भी मुस्तैद है।

Related Articles