शॉर्ट फ़िल्म फेस्टिवल समारोह 2021 : “ शूट फ़ॉर लीगल अवरनेस ” के जरिए कानूनी अधिकारों के प्रति जागरूकता का एक सराहनीय प्रयास

Whatsaap Strip

रायपुर : राजधानी में शॉर्ट फ़िल्म फेस्टिवल समारोह 2021 “शूट फ़ॉर लीगल अवरनेस”के ज़रिए लोगों को कानूनी अधिकारों के प्रति जागरूक किया गया।साथ ही विभिन्न प्रकार के अपराधों से बचाव हेतु जानकारी प्रदान की गई इस आयोजन के तृतीय सत्र के दूसरे दिन फ़िल्मों की प्रदर्शनी एवं विभिन्न विभागों द्वारा प्रस्तुतीकरण तीन सत्रों में रखी गयी थी।

इस कार्यक्रम में फ़िल्में चार प्रकार की थीम मानव तस्करी , बच्चों के अधिकार,नशा मुक्ति एवं साइबर क्राइम पर आधारित थी।यह आयोजन विभिन्न अपराधों के सापेक्ष कानूनों की जानकारी और अधिकारों पर आधारित था । इसमें कई ऐसी जानकारियाँ प्रदान की गईं जो अमूमन आम लोगों को मालूम नहीं होती । इस ज्ञानपरक आयोजन में कई जानकारी से परिपूर्ण लघु फिल्मों का प्रदर्शन किया गया ।

 इसे भी पढ़े:आज प्रदेश के एक-दो स्थानों पर हो सकती है हल्की बारिश, गरज-चमक की संभावना

सुबह 11:00 बजे प्रदर्शन किया गया । आरंभ हुए प्रथम सत्र में कुल 16 फ़िल्मों का फ़िल्मों के प्रदर्शन के मध्य सरकार के विभिन्न विभागों से उपस्थित अतिथियो द्वारा अलग – अलग विषयों पर परिचर्चा की गयी । इसी सिलसिले में समाज कल्याण विभाग के अमित परिहार द्वारा वरिष्ठ नागरिक के अधिकार एवं समाज कल्याण , पुलिस प्रशासन के रतन सिंह द्वारा गिरफ्तार व्यक्ति के अधिकार तथा उसे सुनिश्चित करने में पुलिस की भूमिका , नगर निगम रायपुर के राकेश कुंडू द्वारा स्वच्छ भारत अभियान तथा महिला एवं बाल विकास के के शुक्ला द्वारा महिला व बच्चों के अधिकारों से संबंधित जानकारी दी गई ।

शॉर्ट फ़िल्म फेस्टिवल समारोह 2021 : “ शूट फ़ॉर लीगल अवरनेस " के जरिए कानूनी अधिकारों के प्रति जागरूकता का एक सराहनीय प्रयास
शूट फ़ॉर लीगल अवरनेस

कार्यक्रम की समय सारणी

दूसरे सत्र में दोपहर 01:00 से 16 फ़िल्मों का प्रदर्शन किया गया । इस बीच जिला पंचायत विभाग के एच के जोशी द्वारा पंचायत व्यवस्था एवं विधिक सेवा की भूमिका , स्वास्थ्य विभाग द्वारा मानसिक रूप से अस्वस्थ व्यक्ति के अधिकार , महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा महिलाओं का घरेलू हिंसा से संरक्षण तथा इस संबंध में निःशुल्क विधिक सेवा की जानकारी दी गई । 3 बजे से तृतीय सत्र का आरंभ हुआ , इसमें पुनः 16 फ़िल्मों का प्रदर्शन किया गया ।

अंतिम सत्र में वन विभाग द्वारा पर्यावरण संरक्षण एवं स्वच्छ पर्यावरण संवैधानिक अधिकार , पुलिस प्रशासन के डॉक्टर अविनाश शुक्ला द्वारा गुड टच एवं बैड टच तथा महिलाओं के आत्मरक्षा के उपाय के बारे में बताया गया ।

इसे भी पढ़े:उत्तर प्रदेश में पांव पसारने लगा जीका वायरस , कानपुर के बाद अब लखनऊ में 2 मरीज मिलने से मचा हड़कंप

करुणा योजना क्या है??

ज़िला न्यायालय रायपुर की न्यायाधीश कु०स्वर्णा डेहेरे द्वारा संक्षिप्त में लोक अदालत के उद्देश्य एवं उसके लाभ के संबंध में जानकारी दी गई । जिला न्यायालय रायपुर की न्यायाधीश कु तान्या बरमहे ने ” करुणा योजना ” के संबंध में प्रस्तुति दी । सभी सत्रों के दौरान सांस्कृतिक विभाग द्वारा कला एवं नृत्य का सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजन किया गया था । इसी दौरान विधिक छात्रों द्वारा फ्लैश मॉब की प्रस्तुति के माध्यम से क़ानूनी शिक्षा के बारे में बताया गया । सभी शॉर्ट फ़िल्म की सफल प्रस्तुति के उपरांत उक्त फ़िल्मों के निर्मोताओं व प्रस्तुतकर्ता द्वारा शॉर्ट फिल्में बनाने के उद्देश्य पर जानकारी साझा की गई ।

Related Articles