लाइलाज बीमारी से जिंदगी की जंग लड़ रहे बालक बनेगा कलेक्टर, जताई थी IAS अफसर बनने की इच्छा

Whatsaap Strip

बता दें कि प्रोजेरिया नामक लाइलाज बीमारी से ग्रसित इस बालक की कलेक्टर बनने की इच्छा जताई थी।गरियाबंद। जिले में बालक शैलेंद्र आज 1 दिन का कलेक्टर बनेगा। जो अपने आप में यह अनोखा मामला है। बता दें कि प्रोजेरिया नामक लाइलाज बीमारी से ग्रसित इस बालक की कलेक्टर बनने की इच्छा जताई थी।वहीं इसकी जानकारी मिलते ही मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने भी बालक के प्रति उनके भावनाओं का सम्मान करते हुए सहृदयता दिखाते हुए ना सिर्फ इसके लिए सहमति दी बल्कि स्वयं भी बालक से मिलना चाहा।

 इसे भी पढ़े: रायपुर में आसमान छूने लगे सब्जियों के दाम, टमाटर 40 तो प्याज बिक रहा 32 रुपए किलो

वहीं आज बालक शैलेंद्र को जिला गरियाबंद का 1 दिन का कलेक्टर बनाया जाएगा।बालक सुबह 11.12 बजे गरियाबंद पहुंचेगा इसके बाद आज ही दोपहर को मुख्यमंत्री से भी शैलेंद्र की मुलाकात भी करवाई जाएगी। आपको बता दें कि यह बालक गरियाबंद जिले के छुरा के मेढकी डबरी गांव का रहने वाला है। जो अपनी जटिल और लाइलाज बीमारी के चलते 16 की उम्र में बुजुर्ग की तरह दीखता है शैलेंद्र के शरीर पर अब झुर्रियां आने लगी हैं सारे बाल झाड़ गए हैं और सर बड़ा हो गया है बालक को 1 दिन का कलेक्टर बनाए जाने की पुष्टि प्रशासन ने की है।

Related Articles