रिटायर्ड अफसर के साथ हुई ऑनलाइन ठगी, KYC के नाम पर 2 लाख से ज्यादा की ठगी

Whatsaap Strip

छत्तीसगढ़। रायपुर

आम आदमी अक्सर साइबर ठगों के झांसों में फंस जाते है लेकिन इस बार गृह मंत्रालय के इंटेलीजेंस विभाग के रिटायर्ड अधिकारी को ही ठग लिया। उन्हें मोबाइल सिम की केवायसी कराने का झांसा दिया और एक मोबाइल ऐप डाउनलोड करने कहा। इसके बाद उनके बैंक खाते से 2 लाख रुपए से अधिक की राशि उनके खाते से पार हो गई। इसकी शिकायत पर पुलिस ने अज्ञात ठग के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

पुलिस के मुताबिक गायत्री नगर निवासी मोनिषचंद्र कौशिक गृह मंत्रालय के असूचना विभाग के असिस्टेंट डायरेक्टर के पद से रिटायर हुए हैं। 18 अगस्त को एक व्यक्ति ने उन्हें फोन किया और बताया कि उनका बीएसएनएल सिम काफी पुराना है। इसका केवायसी कराना होगा। मोनिष केवायसी कराने के लिए राजी हो गए। इसके बाद आरोपी ने केवायसी जल्दी करने के लिए क्यूएस मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए कहा।

उन्होंने क्यूएस मोबाइल ऐप डाउनलोड किया। इसके बाद आरोपी ने उन्हें 10 रुपए ऑनलाइन भुगतान करने के लिए कहा। आरोपी के बताए अनुसार जैसे ही उन्होंने 10 रुपए ऑनलाइन भुगतान किए, वैसे ही उनके एसबीआई बैंक खाता से 2 लाख 3 हजार 57 रुपए 85 पैसे का आहरण हो गया। इसकी शिकायत पर खम्हारडीह पुलिस ने अज्ञात ठग के खिलाफ अपराध दर्ज कर विवेचना में लिया है।

ठगी का पुराना पैटर्न
मोबाइल ऐप डाउनलोड कराकर ठगी करना साइबर ठगों का पुराना पैटर्न है। अब तक कई लोगों को निशाना बना चुके हैं। ठग अक्सर केवायसी, रिचार्ज, बिल भुगतान जैसे कार्य जल्दी करने के लिए मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए कहते हैं। ऐप डाउनलोड करते ही पीडि़त का मोबाइल एक्सेस ठगों को मिल जाता है। इसके बाद 5 या 10 रुपए का ऑनलाइन भुगतान करने के लिए कहते हैं। ऑनलाइन भुगतान की प्रक्रिया के दौरान पीडि़त का बैंक खाता नंबर, एटीएम कार्ड नंबर, पासवर्ड, फोन पे आदि की पूरी जानकारी उन्हें मिल जाती है। इसके जरिए पीडि़त के बैंक खाते से ऑनलाइन रकम निकाल लेते हैं।

Related Articles