जीका वायरस का बढ़ा खतरा, ICMR ने जारी की नई गाइडलाइन, जाने किनको है अधिक खतरा

Zika Virus : पिछले कुछ दिनों से जीका वायरस (Zika virus) के मामलें पुणे  में बढ़ रहे हैं. कुछ अन्य राज्यों में भी इसके संक्रमण का खतरा बढ़ रहा है. ऐसे में भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) ने जीका वायरस को लेकर नई गाइडलाइन जारी की है. इसमें राज्यों को डेंगू और चिकनगुनिया की जांच बढ़ाने का निर्देश दिया गया है. आईसीएमआर ने सभी राज्यों को जीका की स्क्रीनिंग बढ़ाने और इस संक्रमण को लेकर अलर्ट रहने को कहा है.

यह भी पढ़ें:- राज्य और केंद्र सरकार के बेहतर समन्वय से छत्तीसगढ़ का होगा तेजी से विकास : केंद्रीय मंत्री मनोहर लाल

भारत में जीका वायरस के केस गिनती के ही आते हैं, फिर भी आईसीएमआर ने यह दिशा- निर्देश क्यों जारी किए हैं? आइए इस बारे में जानते हैं. एक्सपर्ट्स बताते हैं कि देश के अधिकतर राज्यों में मानसून आ गया है तो जीका वायरस के केस और भी बढ़ने की आशंका जताई जा रही है. ऐसे में इस बीमारी से बचाव के लिए कदम उठाए जा रहे हैं. जीका भी मच्छर के काटने से फैलता है और बारिश में इस वायरस के मच्छर पनप सकते हैं. ऐसे में आईसीएमआर ने नई गाइडलाइन जारी की है. इसमें राज्यों से कहा गया है कि डेंगू और चिकनगुनिया के लक्षण वाले मरीजों में जीका वायरस का टेस्ट भी किया जाएगा.

लेडी हार्डिंग हॉस्पिटल में मेडिसिन विभाग में एचओडी डॉ. एलएच घोटेकर बताते हैं कि जीका वायरस एडीज मच्छर के काटने से फैलता है. यही मच्छर डेंगू और चिकनगुनिया भी फैलाता है. हालांकि डेंगू की तुलना में जीका वायरस के लक्षण हल्के होते हैं. स्किन पर दाने, आंखों का लाल होना, जोड़ों में दर्द, मांसपेशियों में दर्द और सिरदर्द की समस्या जीका वायरस के लक्षण हो सकते हैं.

जीका वायरस (Zika Virus) गर्भवती महिलाओं के लिए अधिक खतरनाक है. इससे नवजात शिशुओं को भी खतरा रहता है. इसके संक्रमण से बच्चे के मानसिक विकास में परेशानी आ सकती है. गर्भवती महिलाओं में भी जीका के केस देखे जा रहे हैं. ऐसे में आईसीएमआर ने राज्यों को अलर्ट रहने का निर्देश दिया है.

बारिश के मौसम में जल भराव के कारण मच्छर तेजी से पनपते हैं. इस मौसम में नमी भी मच्छरों के जीवन को बढ़ा देती है. मानसून के दौरान घरों में पानी की टंकियों, कूलरों, और अन्य चीजों में पानी जमा हो जाता है. इससे भी मच्छरों की संख्या बढ़ जाती है. इससे जीका वायरस, डेंगू, चिकनगुनिया और मलेरिया जैसी बीमारियां पनपने लगती हैं.

क्या है जीका वायरस और इसके संक्रमण
जीका, डेंगू और चिकनगुनिया की तरह एडीज मच्छर जनित वायरल बीमारी है। यह एक गैर-घातक बीमारी है। हालांकि, जीका प्रभावित गर्भवती महिलाओं से पैदा होने वाले शिशुओं में माइक्रोसेफली (सिर का आकार कम होना) से जुड़ा है, जो इसे एक बड़ी चिंता का विषय बनाता है। भारत में 2016 में गुजरात राज्य से जीका का पहला मामला सामने आया था। तब से, तमिलनाडु, मध्य प्रदेश, राजस्थान, केरल, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, दिल्ली और कर्नाटक जैसे कई अन्य राज्यों ने बाद में मामले दर्ज किए हैं। 2024 में (2 जुलाई तक), महाराष्ट्र ने पुणे (6), कोल्हापुर (1) और संगमनेर (1) से आठ मामले दर्ज किए हैं।

यहां करा सकते हैं जीका वायरस संक्रमण के लिए टेस्ट
जीका परीक्षण सुविधा राष्ट्रीय विषाणु विज्ञान संस्थान (NIV), पुणे; राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (NCDC), दिल्ली और भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) की कुछ चुनिंदा वायरस अनुसंधान और नैदानिक ​​प्रयोगशालाओं में उपलब्ध है। उच्च स्तर पर समीक्षा की जा रही है।

Back to top button