वर्ल्ड फोटोग्राफी डे : क्या है इसका इतिहास कैसे शुरू हुआ ये दिन, देखें देश के कुछ फोटोजेनिक स्पॉट्स की लिस्ट

Whatsaap Strip

न्यूज़ डेस्क

हर साल दुनियाभर में 19 अगस्त के दिन वर्ल्ड फोटोग्राफी डे मनाया जाता है। इस दिन को मानाने का उद्देश्य दुनिया भर के फोटोग्राफर्स को ऐसी तस्वीर खींचने के लिए प्रोत्साहित करना है जिसमें पूरे विश्व की स्पष्ट और साझा झलक हो। यह एक सालाना वैश्विक उत्सव है जिसमें फोटोग्राफी के इतिहास, इसकी कला, शिल्प और विज्ञान का प्रदर्शन किया जाता है।

आज कल सोशल मीडिया का जमाना है। ऐसे में, इस बार वर्ल्ड फोटोग्राफी डे के मौके पर इंस्टाग्राम पर कई आयोजनों की घोषणा की गई है। आयोजकों ने कहा है कि इस बार दुनिया के किसी कोने से आप इस आयोजन में भाग ले सकते हैं।

विश्व फोटोग्राफी दिवस का इतिहास

जानकारी के मुताबिक विश्व फोटोग्राफी दिवस की शुरुआत 2010 में हुई थी लेकिन इससे जुड़ा इतिहास बहुत पुराना है। फ्रांस के जोसेफ नाइसफोर और लुइस डॉगेर ने 9 जनवरी, 1839 को फोटोग्राफी की एक तकनीक डॉगोरोटाइप प्रक्रिया को विकसित किया था। इसे दुनिया की पहली फोटोग्राफी प्रक्रिया माना जाता है। 19 अगस्त, 1839 को फ्रांस की सरकार ने इस आविष्कार की घोषणा की थी और इसका पेटेंट भी प्राप्त किया था। इसी दिन की याद में ‘वर्ल्ड फोटोग्राफी डे’ यानी ‘विश्व फोटोग्राफी दिवस’ मनाया जाता है।

देश के कुछ फेमस फोटोजेनिक जगहें

वाराणसी – दो नदियों ‘वरुणा’ और ‘असि’ के मध्य बसे होने के कारण इसका नाम ‘वाराणसी’ पड़ा। यह बहुत ही सुंदर नगर है जहां पर फोटोग्राफी के लिए आपको बहुत सारी स्थान मिलेंगी। यहां गंगा नदी के तट से उसे पार का नजारा बहुत ही शानदार नजर आता है।

लद्दाख – हिमालय का एक प्रमुख दार्रा खारदोंग ला दर्रा है। यहां की सड़क को दुनिया की सबसे ऊंचाई पर स्थित सड़क माना जाता है। समुद्र तल से 5359 मीटर के ऊंचाई पर स्थित है यह दर्रा। यह भारतीय राज्य लद्दाख क्षेत्र में पड़ता हैं। खारदोंग ला दर्रा की संकीर्ण सड़क के एक किनारे विशालकाय पहाड़ है तो दूसरी तरफ गहरी खाई है। यहां के पहाड़, सड़क, पेड़ और घाटियों को देखकर आपका कैमरा मचल जाएगा।

दार्जिलिंग – कभी सिक्किम का हिस्सा रहे दार्जिलिंग अब पश्चिम का एक मनोहारी और रोमांचकारी शहर है। दार्जीलिंग पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी से लगभग 80 किलोमीटर की दूरी पर पहाडों की चोटी पर स्थित है। ‘क्वीन ऑफ हिल्स’ के नाम से मशहूर दार्जिलिंग हमेशा से एक बेहतरीन हनीमून डेस्टिनेशन रहा है। हर वर्ष सैंकड़ों के संख्या में यहां पर नवविवाहित जोड़े आते हैं और यादगार क्षण समेटकर ले जाते हैं। यहां टॉय ट्रेन, चाय के बागान और यहां के बाजार प्रमुख आकर्षण हैं।

Related Articles