Trending

KBC13 : छत्तीसगढ़ से चिरमिरी के पंकज ने KBC में दिखाई अपनी प्रतिभा, शो के दौरान पूरी हुई दिल की ख्वाहिश

Whatsaap Strip

रायपुर : कौन बनेगा करोड़पति देश का सबसे मशहूर रियालिटी गेम शो है. जिसमें हिस्सा लेने की ख्वाहिश हर किसी की होती है. लेकिन वहां तक पहुंचना इतना आसान नहीं होता. हजारो में से कोई एक अपनी मेहनत, परिश्रम, और धीरज के बल पर वो मुकाम हासिल कर पाता है. और ऐसा ही कर दिखाया है छत्तीसगढ़ के एक छोटे से शहर चिरमिरी के डोमनहिल से आने वाले पंकज कुमार सिंह ने. जिन्होने अपनी बुद्धिमता के दम पर जीवन की तमाम मुश्किलों को पार करते हुए न केवल हॉट सीट तक का सफर तय किया बल्कि शो में 12.5 लाख रुपय जीत कर अपने नाम कर लिया. पंकज ने 25 लाख के सवाल का जवाब न देकर गेम छोड़ दिया. 30 साल के पंकज ने ‘आशा अभिलाषा’ नामक एक स्पेशल पहल के तहत इस शो में भाग लिया.

यह भी पढ़ें : श्राद्ध (पितर) पक्ष : श्राद्ध का महत्व क्या हैं, कौन कर सकता हैं तर्पण एवं कितनी पीढ़ी तक करने का हैं नियम, पढ़ें पूरी खबर

शारीरिक कमजोरी और बेरोजगारी को नहीं आने दिया आड़े

शो के दौरान पंकज ने अमिताभ बच्चन को बताया कि वह पिछले करीब 15 वर्षों से रीढ़ की हड्डी से संबंधित एक दुर्लभ बीमारी जुवेनाइल एंकिलोजिंग स्पॉन्डिलाइटिस से पीड़ित हैं. यह एक गठिया वाली बीमारी है जो पीठ, जोड़ों, जांघों, पैर या कंधों में दर्द का कारण बनता है परेशानियों से घिरे पंकज बीकॉम ग्रेजुएट हैं और फिलहाल वो बेरोजगार हैं. लेकिन अब उनके विजय का वह पल गया है, जिसने उन्हें आत्मनिर्भर बनने और अपने हौसलों की उड़ान भरने के लिए पंख दिए हैं.

पंकज ने बताया कि जब वे कक्षा आठवीं में थे तो उनके शरीर की हड्डियों में धीरे-धीरे दर्द होना शुरू हुआ. 12वीं तक आते दर्द लगातार बढ़ता चला गया. बेहद कठिनाइयों से 12वीं की परीक्षा दे पाए. फिर उन्हें पढ़ाई छोड़नी पड़ गई. परीक्षण के बाद डॉक्टरों ने इस बीमारी के संबंध में बताया और कहा कि उन्हें आजीवन दवा लेनी पड़ेगी. इस दौरान बनारस में रहने वाले उनके जीजा ने हौसला बढ़ाया और इलाज व योग प्राणायाम से वे अपने अंदर आत्मविश्वास लौटा. इसके बाद उन्होंने साल 2018 में बी.कॉम की पढ़ाई पूरी की. उनका यह भी कहना है कि आस-पड़ोस में रहने वाले और कई रिश्तेदार कहा करते थे कि इनके परिवार में सब कुछ तो ठीक है बस यही एक टेंशन का कारण बना हुआ है. अब ये दिन है कि वे उन पर गर्व महसूस कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें : छत्तीसगढ़ की ख़बर : IAS नम्रता जैन व IPS निखिल रखेचा ने महासमुंद कलेक्ट्रेट में रचाई शादी, पढ़ें पूरी खबर

अमिताभ बच्चन से मिलकर लगा जैसे सब कुछ पा लिया

अमिताभ बच्चन से मिलने की खुशी जाहिर करते हुए पंकज ने कहा कि सर से मिलने के बाद उन्हें ऐसा लगा, जैसे मैंने सबकुछ हासिल कर लिया हो. जैसे मैंने निर्वाण प्राप्त कर लिया हो. इसकी वजह यह है कि मैंने उनके सामने हॉट सीट पर बैठकर पहले ही अपने माता-पिता का सपना पूरा कर लिया है. उनके पिता कैलाश सिंह सेंट्रल कोलफील्ड्स लिमिटेड के सेवानिवृत्त कर्मचारी हैं और मां चंद्रावती देवी गृहिणी हैं.

उन्होंने आगे बताया कि अमिताभ बच्चन के साथ बात करते हुए उन्हें बड़ा अपनापन महसूस हुआ. साथ ही शो के दौरान अमिताभ बच्चन ने उनका आत्मविश्वास भी बढ़ाया. जीते हुए पैसों को लेकर पंकज ने ये भी कहा कि वे इससे कोई ऐसा कोर्स करना चाहेंगे, जिससे मैं घर में बैठे ही ऑनलाइन कुछ काम किया जा सके. साथ ही पंकज अपनी एक दुकान भी खोलना चाहते हैं.

शो के दौरान पूरी हुई दिल की ख्वाहिश

शो के दौरान एक एक ऐसा भी पल आया जब पंकज खुशियों का ठिका रहा जब शो के होस्ट अमिताभ बच्चन ने पंकज कुमार की फेवरेट एक्ट्रेस जेनेलिया देशमुख और उनके पति रितेश देशमुख के साथ उनकी बात कराई इस दौरान इस जोड़े ने उन्हें शुभकामनाएं भी दीं.

Related Articles