कम बारिश के कारण नहीं हो पा रही सिंचाई, किसानों की मांग पर जलाशय से छोड़ा जा रहा पानी

Whatsaap Strip

बलौदाबाजार। छत्तीसगढ़

किसानों की मांग पर बलौदा बाजार जिलें के कसडोल विकासखंड के अंतर्गत स्थित जोंक डायवर्सन एवं बलार जलाशय से लगातार पानी छोड़ा जा रहा हैं। राज्य शासन के निर्देश पर उपलब्ध कराई गई सिंचाई सुविधाओं से किसानों को मदद पहुंचाई जा रहीं है। जिलें में लगातार सिंचाई सुविधाओं के विस्तार से किसानों को मिलकर खेती किसानी करनें में बड़ी राहत मिल रही है।

MST की सुविधा बंद होने से बढ़ी पैसेंजर्स की परेशानी, लोकल ट्रेनों में दे रहे तिगुना किराया

जल संसाधन निर्माण संभाग कसडोल कार्यपालन अभियंता टीसी वर्मा ने बताया कि, जोंक व्यपवर्तन योजना के कमांड क्षेत्र में कम बारिश के चलते किसानों की मांग पर 19 जुलाई 2021 से जलाशय से पानी प्रदाय किया जा रहा है, जिससे जोंक व्यपवर्तन के कमाण्ड के कसडोल एवं बिलाईगढ़ विकासखण्ड के 81 गावों के लगभग 11 हजार 5 सौ एकड़ खेतो में सिंचाई की जा चुकी है तथा सिंचाई का कार्य निरंतर प्रगति पर है। वहीं बलार जलाशय में वर्तमान में 60 प्रतिशत के लगभग पानी मौजूद है।

विशेषज्ञों ने कहा, छत्तीसगढ़ में अगस्त में नहीं सितम्बर में आएगी कोरोना की तीसरी लहर

अल्प वर्षा की स्थिति में किसानों की मांग पर बलार जलाशय के नीचे स्थित पिकअप वियर में उपलब्ध पानी से 8 ग्रामों के लगभग 620 एकड़ खेतो में सिंचाई की जा चुकी थी। पुनः अवर्षा की स्थिति में कमाण्ड क्षेत्र के कृषको के मांग पर आवश्यकता को दृष्टिगत रखते हुये दिनांक 11 अगस्त 2021 से गेट खोला गया एवं निरंतर सिंचाई सुविधा प्रदान की जा रही है।

गर्मी से छुटकारा पाने का UAE का अनोखा अंदाज, करा रहे अर्टिफिशियल बारिश

उन्होंने आगें बताया कि कसडोल जल संसाधन संभाग के अंतर्गत समस्त 58 लघु जलाशयों में आज की स्थिति में औसत जल भराव 49 प्रतिशत है। लघु सिंचाई योजनाओं में उपलब्ध जल एवं किसानों की मांग के अनुसार सिंचाई उपलब्ध कराई जा रही है। जिनमे से ग्राम बम्हनी, अमरूवा, मोहतरा टार, तौलीडीह, सूखा, चारभाठा, ठाकुरदिया, धौराभाठा, बलौदा (छुईहा) बिटकुली एवं देवरीडीह जलाशय के अतिरिक्त सभी व्यपवर्तन योजनाओं से सिंचाई सुविधा प्रदान की जा रही है।

गौरतलब है कि जल संसाधन निर्माण संभाग कसडोल के अंतर्गत बलौदाबाजार-भाटापारा जिले के एक वृहद जोंक व्यपवर्तन योजना, एक मध्यम बलार जलाशय योजना, 58 लघु जलाशय एवं 39 व्यपवर्तन योजनायें निर्मित है।

Related Articles